×

चन्नी को सीएम बनाने से तिलमिलाईं मायावती ने कांग्रेस नेतृत्व पर साधा निशाना

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के फैसले को लेकर मायावती ने कांग्रेस पर वार किया। मायावती ने कहा कि राजनीतिक दलों को मुसीबत और मजबूरी में ही दलित याद आते हैं।

Network

NetworkNewstrack NetworkDeepak KumarPublished By Deepak Kumar

Published on 20 Sep 2021 9:19 AM GMT

BSP Supremo Mayawati punjab Cm charanjit singh channi
X

 पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी व बसपा सुप्रीमो मायावती। (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह (Capt Amarinder Singh) के इस्तीफे के बाद चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को राज्य का नया सीएम बनाया गया है। चन्नी प्रदेश के पहले दलित समुदाय से आने वाले मुख्यमंत्री हैं। हालांकि, कांग्रेस हाईकमान के इस फैसले पर विपक्षी दलों ने निशाना भी साधा है। बीएसपी प्रमुख मायावती (BSP chief Mayawati) ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस को दलितों पर भरोसा नहीं है। चन्नी को सीएम बनाना कांग्रेस का चुनावी हथकंडा है क्योंकि उन्हें कुछ ही वक्त के लिए सीएम बनाया गया है जबकि वह आगामी विधानसभा चुनाव ( Assembly Election) में गैर-दलित की अगुवाई में चुनाव लड़ेगी।

मायावती ने दी बधाई

हालांकि, मायावती ने चन्नी के सीएम बनने पर उन्हें बधाई भी दी है। उन्होंने कहा कि मैं चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) को पंजाब का मुख्यमंत्री बनने पर बधाई देती हूं। बेहतर होता कि उन्हें पहले ही सीएम बना दिया जाता। पंजाब चुनाव से ठीक पहले चन्नी की सीएम के रूप में नियुक्ति कांग्रेस का चुनावी हथकंडा लगता है। उन्होंने आगे कहा कि मुझे मीडिया के माध्यम से पता चला है कि पंजाब का अगला विधानसभा चुनाव कांग्रेस एक गैर-दलित के नेतृत्व में लड़ेगी। इसका मतलब यह है कि कांग्रेस को अभी भी दलितों पर पूरा भरोसा नहीं है।

'मजबूरी में याद आते हैं दलित'

बसपा प्रमुख ने कहा कि राजनीतिक दलों को मुसीबत और मजबूरी में ही दलित याद आते हैं। जब भारतीय संविधान बनाने का वक्त आया, तब अगर जवाहर लाल नेहरू एंड कंपनी के पास कोई और काबिल आदमी होता तो ये बाबा साहेब अंबेडकर को संविधान बनाने की जिम्मेदारी नहीं देते। मायावती ने कहा कि अगर बाबा साहेब संविधान ना बनाते तो देश में दलित और अल्पसंख्यक पूरी तरह सुरक्षित नहीं होते।

हरीश रावत के बयान पर निशाना

मायावती ने कहा कि पंजाब में अकाली-बीएसपी के गठबंधन से भी कांग्रेस डरी है। मायावती ने इशारों में हरीश रावत के उस बयान पर भी निशाना साधा है, जिसमें उन्होंने अगला विधानसभा चुनाव नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के चेहरे पर लड़ने की बात कही थी। रावत ने कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) पंजाब कांग्रेस के प्रमुख हैं और राज्य में काफी लोकप्रिय हैं। ऐसे में प्रदेश का आगामी विधानसभा चुनाव सिद्धू के चेहरे पर लड़ा जाएगा।

रावत के बयान पर हंगामा

हालांकि, उनका बयान सामने आने के बाद कांग्रेस नेताओं ने ही इसका विरोध किया है। कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ ने इस पर कहा कि रावत का यह बयान चौंकाने वाला है। यह एक सीएम के अधिकार को कमजोर करने जैसा है, साथ ही उनके इस पद पर चयन के पार्टी के मकसद को भी विफल करने वाला है। वहीं, बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि अगर चरणजीत सिंह चन्नी को सिर्फ नवजोत सिंह सिद्धू के लिए सीट होल्ड करने के लिए सीएम बनाया गया है तो यह पूरे दलित समुदाय का बड़ा अपमान है। यह पूरी तरह से दलित सशक्तीकरण के नैरेटिव को कमजोर करता है।

Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story