×

पंजाब कांग्रेस में मतभेद जारी, सिद्धू को अध्यक्ष बनाए जाने से नाराज हुए कैप्टन अमरिंदर

पंजाब कांग्रेस में मतभेद खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। अब सिद्धू को अध्यक्ष बनाए जाने की खबरों से कैप्टन अमरिंदर सिंह नाराज हो गए हैं।

Network

NetworkNewstrack NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 15 July 2021 2:04 PM GMT

पंजाब कांग्रेस में मतभेद जारी, सिद्धू को अध्यक्ष बनाए जाने से नाराज हुए कैप्टन अमरिंदर
X

नवजोत सिंह सिद्धू-कैप्टन अमरिंदर सिंह (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Punjab Politics: पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress President) में काफी समय से चल रही उठापटक के बाद माना जा रहा था कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) और नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के बीच मतभेद खत्म हो गए हैं। इस बात के संकेत खुद पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) ने दिए थे। लेकिन अब एक बार फिर से कैप्टन अमरिंदर सिंह के नाराज होने की खबर सामने आ रही है।

दरअसल, खबरे हैं कि कांग्रेस नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस का नया अध्यक्ष (Punjab Congress President) बना सकती है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि हाईकमान ने सिद्धू के नाम पर मुहर लगा दी है और जल्द ही इस बाबत पार्टी की ओर से आधिकारिक घोषणा भी कर दी जाएगी। अब इस बात को लेकर मुख्यमंत्री कैप्टन नाराज हो गए हैं।

रावत के बयान से मिले थे अलग ही संकेत

गुरुवार को पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) ने संकेत दिए थे कि दोनों नेताओं के बीच मतभेद खत्म हो गए हैं। उन्होंने कहा था कि कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री बने रहेंगे, जबकि सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष (Punjab Congress Chief) ) बनाया जाएगा। खबरें तो ये भी सामने आई थीं कि पहले मुख्यमंत्री सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का नया सरदार बनाने के फार्मूले पर राजी नहीं थे, मगर दो कार्यकारी प्रधान के फार्मूले के बाद उन्होंने हाईकमान का यह फैसला स्वीकार कर लिया है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

लेकिन सूत्रों के मुताबिक, सिद्धू को अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले से अमरिंदर सिंह नाराज हो गए हैं। बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच बीते काफी महीने से टकरार की स्थिति बनी हुई है, जिसे सुलझाने के लिए पार्टी आलाकमान एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए है। लेकिन अभी कोई बात बनती दिखाई नहीं दे रही है।

इससे पहले मंगलवार को राहुल गांधी के साथ हुई मीटिंग के बाद हरीश रावत ने कहा था कि दोनों कांग्रेस के ही नेता हैं और हमारी कोशिश है कि दोनों 2022 के पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) के लिए साथ आएं।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story