×

Punjab CM Charanjit Singh Channi : चन्नी के जरिये कांग्रेस ने खेला दलित कार्ड

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री होंगे। ये रामदसिया सिख समुदाय से आते हैं।

Neel Mani Lal

Neel Mani LalWritten By Neel Mani LalVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 19 Sep 2021 4:44 PM GMT

Charanjit Singh Channi
X

चरणजीत सिंह चन्नी (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: कांग्रेस ने पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी(Punjab CM Charanjit Singh Channi) को मुख्यमंत्री बना कर दलित सिख कार्ड (Dalit Sikh Card) खेला है। चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री होंगे। चन्नी रामदसिया सिख समुदाय (Ramdasia Sikh Scheduled Caste) से आते हैं। रामदसिया सिख समुदाय को दलित सिख के तौर पर जाना जाता है।

रामदासिया(Ramdasia) आम तौर पर उन सिखों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है जिनके पूर्वज दलित थे और उन्होंने सिख धर्म स्वीकार कर लिया। इस समुदाय की तादाद पंजाब मे करीब 30 फीसदी है।चन्नी को सीएम बना कर कांग्रेस दलित सिखों के वोट पर नजर रखे है।

पंजाब का जातीय समीकरण

पंजाब का जातीय समीकरण तीन भागों में बंटा है, माझा, मालवा और दोआबा। पंजाब में कुल मतदाताओं में करीब 20 फीसदी जाट सिख हैं। 2017 विधानसभा चुनाव में 'आप' ने जाट सिखों में पैठ बनाई थी। सभी राजनीतिक दल जाट सिख पर ही अपना दांव खेलते आए हैं।

जाट सिख पंजाब का सीएम बनता आया है। पंजाब में 32 फीसदी दलित मतदाता हैं। दोआबा में जीत का आधार दलित व हिंदू मतदाता ही बनते हैं। राज्य में 38 फीसदी के करीब हिंदू मतदाता हैं।

पंजाब में मुख्यमंत्री पद के लिए सिख चेहरा एक महत्वपूर्ण फैक्टर है ।,राज्य में कभी कोई गैर सिख मुख्यमंत्री नहीं बना है।

चरणजीत सिंह चन्नी (फोटो- सोशल मीडिया)

शैक्षणिक और राजनीतिक करियर बेहतरीन

चमकुर साहिब निर्वाचन क्षेत्र से तीन बार के विधायक चन्नी का शैक्षणिक और राजनीतिक करियर बेहतरीन रहा है। उन्होंने एलएलबी और एमबीए किया हुआ है। अमरिंदर सिंह सरकार में तकनीकी शिक्षा, औद्योगिक प्रशिक्षण, रोजगार सृजन, पर्यटन और सांस्कृतिक मामलों के विभाग देख रहे थे।

पार्षदी से शुरुआत चन्नी ने पार्षद पद से राजनीति की शुरुआत की। वह तीन बार पार्षद रहे। वह नगर काउंसिल खरड़ के प्रधान रहे। 2007 में चमकौर साहिब से चन्नी आजाद जीतकर पंजाब विधानसभा पहुंचे।

बाद में वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए और 2012-2017 में वह कांग्रेस के टिकट पर चमकौर साहिब से चुनाव जीते। 2015 में कांग्रेस ने सुनील जाखड़ को नेता प्रतिपक्ष पद से हटाकर चरणजीत सिंह चन्नी को नेता प्रतिपक्ष बनाया। 2017 में चन्नी को पहली बार कैबिनेट में शामिल किया गया।

अंधविश्वास भी चरणजीत सिंह चन्नी ने एक बार हाथी पर भी सवारी की थी। चर्चा थी कि ऐसा करने से वह मुख्यमंत्री बन सकते हैं। ज्योतिष में विश्वास रखने वाले चरणजीत सिंह चन्नी ने सेक्टर दो स्थिति अपने सरकारी आवास के सामने सड़क बनवा दी थी। जिसके बाद विवाद हो गया था और चंडीगढ़ प्रशासन ने पुनः सड़क को खत्म करवाकर ग्रीन बेल्ट डेवलप कर दी।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story