×

Punjab Politics: सिद्धू की होगी 'AAP' में एंट्री, इस बयान से चढ़ा सियासी पारा

पंजाब (Punjab) में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 (Assembly Election 2022) से पहले ही नवजोत सिंह सिद्धू ने आम आदमी पार्टी की तारीफ कर पंजाब का सियासी पारा बढ़ दिया है।

Network

NetworkNewstrack NetworkSatyabhaPublished By Satyabha

Published on 13 July 2021 12:14 PM GMT

Punjab Politics: सिद्धू की होगी AAP में एंट्री, इस बयान से चढ़ा सियासी पारा
X

नवजोत सिंह सिद्धू फोटो-सोशल मीडिया 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 (Assembly Election 2022) से पहले ही राजनीतिक दलों की बयानबाजी शुरू हो चुकी है। इसी बीच कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने आम आदमी पार्टी (AAP) की तारीफ में कुछ ऐसा कह दिया है जिसके बाद से ही पंजाब का सियासी पारा बढ़ गया है।

दरअसल, नवजोत सिंह ने मंगलवार को एक ट्वीट कर कहा कि 'मेरे विजन और पंजाब के लिए काम को आम आदमी पार्टी ने हमेशा पहचाना है। फिर चाहे वह 2017 से पहले की बात हो, ड्रग्स, किसानों के मुद्दे, भ्रष्टाचार हो या बिजली संकट का सामना।' सिर्फ इतना ही नहीं सिद्धू ने आगे कहा कि 'आज जब मैं पंजाब मॉडल पेश कर रहा हूं तो यह स्पष्ट है कि वे जानते हैं कि वास्तव में पंजाब के लिए कौन लड़ रहा है।'

सिद्धू के आप में शामिल होने की अटकलें बढ़ी

सिद्धू के इस ट्वीट के बाद उनके आम आदमी पार्टी ज्वाइन करने की अटकलें तेज हो गई है। वैसे भी आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी भी चुनाव लड़ने वाली है। ऐसे में पार्टी को एक मजबूत दावेदार की तलाश है। सूत्रों की मानें तो पार्टी को नवजोत सिंह सिद्धू में वह दावेदार नजर आ रहा है। एक कार्यक्रम के दौरान केजरीवाल से नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर सवाल भी किया गया था, जिस पर उन्होंने कहा था कि सिद्धू का वो काफी सम्मान करते हैं। सिद्धू कांग्रेस के सम्मानित नेता हैं।

केजरीवाल पर साधा था निशानी

हालांकि बीते दिनों सिद्धू ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा था। उन्होंने एक ट्वीट में कहा था कि 'राज्य को दिल्ली मॉडल की नहीं, बल्कि पंजाब मॉडल की जरूरत है। नीति पर काम न करने वाली राजनीति महज नकारात्मक प्रचार है और लोकपक्षीय एजेंडे से वंचित नेता राजनीति सिर्फ बिजनेस के लिए करते हैं। इसलिए विकास बगैर राजनीति उनके लिए कोई मायने नहीं रखती है।'

Satyabha

Satyabha

Next Story