×

राकेश टिकैत का पंजाब में जोरदार स्वागत, किसान नेताओं ने खोला राज बताया केंद्र को कैसे लाए घुटनों पर

केंद्र सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों (Krishi Kanoon) को वापस लेने के बाद दिल्ली के सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर (Singhu Border, Tikri, Ghazipur Border) पर आंदोलन कर रहे किसान अब अपने घरों को लौट रहे हैं।

Network

Newstrack NetworkPublished By aman

Published on 13 Dec 2021 7:03 AM GMT

राकेश टिकैत का पंजाब में जोरदार स्वागत, किसान नेताओं ने खोला राज बताया केंद्र को कैसे लाए घुटनों पर
X

फोटो-सोशल मीडिया से  

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

केंद्र सरकार द्वारा तीनों कृषि कानूनों (Krishi Kanoon) को वापस लेने के बाद दिल्ली के सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर (Singhu Border, Tikri, Ghazipur Border) पर आंदोलन (Kisan Andolan) कर रहे किसान अब अपने घरों को लौट रहे हैं।आंदोलन खत्म होने और सरकार से अपनी शर्तें मनवाने के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के नेता ख़ुशी-खुशी घर वापस लौटे हैं। इसी बीच किसान आंदोलन का बड़ा चेहरा और किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) भी पंजाब पहुंचे हैं।

राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का पंजाब पहुंचने पर जोरदार स्वागत हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चंडीगढ़ के मटका चौक पर किसान नेता राकेश टिकैत का जोरदार स्वागत हुआ। उनके स्वागत के लिए वहां हजारों लोग जुटे। इस दौरान, राकेश टिकैत ने दावा किया कि 'साथ रहने की वजह से किसान केंद्र सरकार के खिलाफ अहम लड़ाई जीत पाए।'

'बाबाजी' भी पहुंचे स्वागत को

लभ सिंह जिन्हें पंजाब में 'बाबाजी' के नाम से ख्याति प्राप्त है, वो भी राकेश टिकैत की खातिरदारी के लिए चंडीगढ़ के मटका चौक पहुंचे। उन्होंने भी टिकैत का स्वागत किया। बता दें, कि यहां किसानों ने कृषि कानूनों के खिलाफ अपनी जीत का जश्न मनाने से पहले उन लोगों को याद किया जिन्होंने इस आंदोलन के दौरान अपनी जान गंवाई। राकेश टिकैत के स्वागत के लिए मटका चौक पर किसानों ने डीजे का इंतजाम किया था। डीजे की धुन पर वो नाचते भी नजर आए।

भाईचारा और एकता ही अहम

इस मौके पर, कल तक आंदोलन पर बैठे किसान नेताओं ने अपनी जीत का राज भी खोला। किसान नेताओं ने बताया कि 'इस आंदोलन की वजह से हमें प्यार और एकता के साथ रहने की सीख मिली। उन्होंने कहा, 'हमें मालूम चला कि भाईचारा और एकता कैसे संघर्ष के दौरान सबसे अहम होता है।'

निर्णायक जीत हासिल की

इस मौके पर सभी किसान खुश नजर आए। 'बाबाजी' लभ सिंह ने बोले, 'आप आज जो देख रहे हैं, यह जीत की ख़ुशी है। हमारे लोगों में कितना प्यार हुए सम्मान है, वह देखने को मिल रहा है। हमने एक निर्णायक जीत हासिल की है। वह दिख रही है। उसकी खुशी यहां मौजूद लोगों में साफ देखी ज सकती है।'

aman

aman

Next Story