×

Congress Chintan Shivir: कांग्रेस के चिंतन शिविर में प्रियंका को कमान देने की मांग, क्या बनेंगी अध्यक्ष?

Chintan Shivir In Udaipur: चिंतन शिविर के दूसरे दिन महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को पार्टी की कमान सौंपे जाने की मांग उठी।

Rahul Singh Rajpoot
Published on 14 May 2022 3:18 PM GMT
Congress Chintan Shivir: कांग्रेस के चिंतन शिविर में प्रियंका को कमान देने की मांग, क्या बनेंगी अध्यक्ष?
X

कांग्रेस चिंतन शिविर (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Congress Chintan Shivir: कांग्रेस पार्टी के गिरते जनाधार, सिमटते संगठन को फिर से पुनर्जीवित करने के लिए राजस्थान के उदयपुर में चिंतन शिविर (Chintan Shivir In Udaipur) चल रहा है, इसे 'नव संकल्प' (Nav Sankalp) नाम दिया गया है। इसमें पार्टी की कमियों और आगे के रोडमैप को लेकर चर्चा चल रही है। 13 मई से शुरू हुए इस तीन दिवसीय चिंतन शिविर के दूसरे दिन महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) को पार्टी की कमान सौंपे जाने की मांग उठी। कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम (Acharya Pramod Krishanam) ने मंच अपने संबोधन में प्रियंका गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की मांग की। जिस वक्त आचार्य प्रमोद कृष्णम ने यह मांग की वहां पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) भी मौजूद थीं।

हालांकि इससे पहले शिविर के पहले दिन राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को अध्यक्ष बनाने की बात कही थी। चिंतन शिविर के दूसरे दिन शनिवार को आचार्य प्रमोद कृष्णम ने अपनी बात रखते हुए कहा कि प्रियंका गांधी को सिर्फ एक ही राज्य तक सीमित नहीं रखा जा सकता। उनकी देशभर में एक अलग छवि है और इसे कांग्रेस (Congress) को भुनाना चाहिए। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की गैरमौजूदगी में बोल रहे प्रमोद कृष्णम ने प्रियंका गांधी की जमकर तारीफ भी की। बता दें इससे पहले भी उन्होंने पार्टी की कमान प्रियंका को सौंपने की बात कह चुके हैं।

कई अन्य नेताओं ने भी की तरफदारी

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि राहुल गांधी को अध्यक्ष के लिए 2 साल से मनाने की कोशिश चल रही है, लेकिन वह अध्यक्ष बनने को तैयार नहीं हैं। अगर वह अध्यक्ष नहीं बनना चाहते तो प्रियंका गांधी वाड्रा को क्यों नहीं इसकी जिम्मेदारी सौंपी जाती। वह हिंदुस्तान की सबसे लोकप्रिय चेहरा हैं। प्रमोद कृष्णम जब यह बोल रहे थे तभी पार्टी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो उन्होंने उलट कर जवाब दे दिया।

हरियाणा के सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी प्रियंका गांधी को राष्ट्रीय राजनीति में लाए जाने की तरफदारी की है। प्रियंका के नाम पर पूर्व सांसद रंजीत रंजन ने भी अपनी सहमति जताई है। उन्होंने कहा कि प्रियंका जैसी नेता को एक राज्य में कैद करना ठीक नहीं है। उन्हें अब राष्ट्रीय राजनीति में आना चाहिए और कांग्रेस में अहम भूमिका निभानी चाहिए।

चिंतन शिविर के लिए बनाया गया एक पैनल

बता दें इस चिंतन शिविर के लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने एक पैनल बनाया है जो पार्टी को भविष्य का रोड मैप देगा। जिसमें आचार्य प्रमोद कृष्णम भी शामिल हैं। इस पॉलिटिकल पैनल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पवन खेरा, रंजीत रंजन, राजस्थान के पूर्व मंत्री रघु शर्मा, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सरीखे नेता को शामिल किया गया है। इस पैनल के कंविनर राज्यसभा सांसद मलिकार्जुन खड़गे हैं।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story