Top

राजस्थान में कोरोना बेकाबू, CM गहलोत ने IAS-RAS अधिकारियों को उतारा मैदान में

राजस्थान में भी कोरोना का कहर तेजी से पैर पसार रहा है। जिसकी रोकथाम के लिए गहलोत सरकार ने पूरी ब्यूरोक्रेसी को इसमें शामिल कर लिया है ।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkMonikaPublished By Monika

Published on 26 April 2021 11:07 AM GMT

राजस्थान में कोरोना बेकाबू, CM गहलोत ने IAS-RAS अधिकारियों को उतारा मैदान में
X

CM अशोक गहलोत (फोटो: सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जयपुर: देश में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण (coronavirus ) से हर रोज संक्रमित मरीजों के नए रिकॉर्ड सामने आ रहे हैं, जो बेहद परेशान करने वाले हैं। वहीं राजस्थान (Rajasthan) में भी कोरोना का कहर तेजी से पैर पसार रहा है । बेकाबू कोरोना संक्रमण (Uncontrollable Corona Infection) की रोकथाम के लिए गहलोत सरकार ने पूरी ब्यूरोक्रेसी (Bureaucracy) को इसमें शामिल कर लिया है । जिसके बाद से आईएएस और आरएएस अपने कामों को छोड़कर चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में अपनी सेवाएं दे रहे हैं ।

आपको बता दें, चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन के अंडर में ही 22 आईएएस और 19 आरएएस (IAS-RAS) अपनी सेवाएं दे रहे हैं । गहलोत सरकार ने 16 अप्रैल से 23 अप्रैल तक 50 से ज्यादा नौकरशाहों की कोविड की रोकथाम में ड्यूटी लगाई है । फिर भी कोरोना संक्रमण बेकाबू ही दिख रहा है । सरकार द्वारा बनाए गए प्रदेश स्तरीय कोविड-19 कंट्रोल रूम में भी 20 से अधिक नौकरशाहों की ड्यूटी लगाई गई ।

बता दें, प्रदेश में बेकाबू कोरोना संक्रमण को काबू करने के लिए सरकार हर प्रयास कर रही है । इसपर लगाम लगाने के लिए गहलोत सरकार ने अपनी पूरी ताकत झोज दी है । जिसके चलते वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों से लेकर आईपीएस और आरएएस अधिकारियों को भी इस काल में लगाया गया । इस काम के लिए इन अधिकारियों को अधिक चार्ज दिया जा रहा है । क्योंकि ऐसे समय पर ये सभी अधिकारी अपनी चिंता ना करते हुए दूसरों की मदद के लिए खड़े हैं । कोविड-19 की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जिलों के प्रभारी सचिवों को भी अलग से टास्क दिया है ।

जिला कलेक्टर्स भी रहेंगे काम पर मौजूद

इस कंट्रोल रूम के जरिए प्रदेश के सभी जिलों की दैनिक रिपोर्ट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास भेजी जा रही है । वहीं ऑक्सीजन और बेड की उपलब्धता का काम भी इसी कंट्रोल रूम के माध्यम से हो रहा है । दूसरी तरफ प्रभारी सचिव जिलों में हुड जा कर कोरोना रोकथाम को लेकर लोगों को जागरुक करेंगे । साथ ही जिला स्तर पर हो रहे कामकाज को लेकर भी समीक्षा करेंगे । जिला कलेक्टर्स को कोविड गाइडलाइन और वीकेंड कर्फ्यू का पालन का काम किया गया है ।

Monika

Monika

Next Story