Top

कोरोना संकट में व्यवसायी ने उठाया अनोखा कदम,मरीजों को मिलेगी बड़ी राहत

अब यहां प्रतिदिन ऑक्सीजन के 150 से अधिक सिलेंडर्स का उत्पादन हो रहा है।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkSumanPublished By Suman

Published on 29 April 2021 4:55 AM GMT

कोरोना संकट में व्यवसायी ने उठाया अनोखा कदम,मरीजों को मिलेगी  बड़ी राहत
X

सांकेतिक तस्वीर(साभार-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोटा : कोरोना की दूसरी लहर (Second wave of corona) के बीच देश और प्रदेश में ऑक्सीजन का संकट (Oxygen crisis) को लेकर चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ है। इस संकट से निपटने के लिये कोचिंग सिटी कोटा के एक व्यवसायी ने अनूठा कदम उठाया है। इस व्यवसायी ने अपनी फैक्ट्री को कुछ ही दिनों में दिल्ली के विशेषज्ञों की टीम की मदद से ऑक्सीजन प्लांट में तब्दील करवा डाला।

इससे पहले यह फैक्ट्री दूसरी गैस का उत्पादन कर बाजार में सप्लाई करती थी। लेकिन कोरोना संक्रमण के बिगड़ते हालात में जैसे ही ऑक्सीजन को लेकर हाहाकार मचा तो युवा उद्यमी ने अपने व्यवसाय को एक तरफ कर जन सेवा में मानवता की मिसाल देते हुए अपनी फैक्ट्री को ऑक्सीजन प्लांट में तब्दील करवा लिया। अब यहां प्रतिदिन ऑक्सीजन के 150 से अधिक सिलेंडर्स का उत्पादन हो रहा है। उद्यमी ने ऑक्सीजन प्रबंधन के लिए प्लांट को जिला प्रशासन को सौंप दिया है।

संकट की घड़ी में राहत

कोटा के रामपुर औद्योगिक क्षेत्र के पास भीमपुरा में आकाश नाम से संचालित प्लांट के मालिक राजेश अग्रवाल ने बताया कि संकट की इस घड़ी में हमने अपने तमाम दूसरे गैस उत्पादन मैटेरियल्स के काम को बंद कर ऑक्सीजन प्लांट को तैयार करवा लिया है। बकौल राजेश वे जिला प्रशासन का सहयोग करना चाहते हैं। हम यहां से 200 ऑक्सीजन सिलेंडर का उत्पादन करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को संकट की इस घड़ी में राहत मिल सके।

सांकेतिक तस्वीर(साभार-सोशल मीडिया)

उत्पादन की क्षमता में बढ़ोतरी

राजेश अग्रवाल ने औद्योगिक क्षेत्र के अन्य उद्यमियों से भी अपील की है कि वह भी अपने प्लांटों को ऑक्सीजन प्लांट में तब्दील करवाकर संकट की इस घड़ी में मानवता का धर्म निभायें।प्लांट को तैयार करने आए विशेषज्ञों की टीम के सदस्य कपिल शर्मा ने बताया कि वैसे तो इस तरह के प्लांट को तैयार करने में 3 से 4 महीने का वक्त लगता है, लेकिन हमने 24 घंटे काम कर 15 से 20 दिन में इस प्लांट को तैयार कर दिया है। कोशिश है कि इसमें उत्पादन की क्षमता में बढ़ोतरी की जाए। हमारे पास देश के अन्य क्षेत्रों से भी ऑक्सीजन प्लांट को तैयार करने के लगातार ऑर्डर मिल रहे हैं। जिला प्रशासन ने प्लांट में तैयार होने वाले ऑक्सीजन सिलेंडर्स को अस्पतालों में सप्लाई के लिए अधिग्रहित कर लिया है।

Suman

Suman

Next Story