×

Doston Se Kaisa Vyavhar Kare: दोस्ती करने से पहले रखें इन बातों का ख्याल, नहीं आएगी दोस्ती में दरार

Doston Se Kaisa Vyavhar Kare: सच्चा दोस्त वही होता है जो गलत काम करने से रोके, सही सलाह दे और हमशा अच्छे बुरे वक्त में आपके साथ खड़ा रहे। वहीं धोखेबाज और बुरे दोस्त किसरी बीमारी से कम नहीं हैं ।

Pallavi Srivastava

Pallavi SrivastavaWritten By Pallavi Srivastava

Published on 13 Oct 2021 11:43 AM GMT

Friends forever
X

दोस्ती के रिश्ते में रहें ईमानदार pic(social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Doston Se Kaisa Vyavhar Kare: दोस्ती का रिश्ता दिखावा, छल-कपट, अमीरी-गरीबी इन सब से परे होता है। वहीं जिस रिश्ते में इन बातों की जगह होती है वो सच्ची दोस्ती नहीं बल्कि धोखा है। सच्चा दोस्त वही होता है जो गलत काम करने से रोके, सही सलाह दे(Dost Ki salah) और हमशा अच्छे बुरे वक्त में आपके साथ खड़ा रहे।

वहीं धोखेबाज और बुरे दोस्त(Bure doston ke lakshan) किसरी बीमारी से कम नहीं हैं इसलए हमेशा दोस्त बनाने से पहले सावधान रहें(Dost Banane Se pahle In bato ka rakhen khayal)। और साथ ही दोस्त के साथ दोस्ती कायम रखने के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान भी रखना चाहिए। चलिए जानते हैं कि किन बातों पर अम्ल करें-

प्यार और विश्वास से भरा होता है दोस्ती का अनोखा रिश्ता pic(social media)

धन का लेन-देन कभी न करें(Dosti Me Len-Den Na Kare)

दोस्ती ही क्या पैसों के लेन देन में भाई बहन तक एक दूसरे के दुश्मन बन जाते हैं इसलिए पैसों का लेन-देन आपके दोस्ती के रिश्तों में दरार पैदा कर सकता है। आपकी दोस्ती कितनी भी गहरी क्यों न हो, लेकिन लेन देन में सावधानी नहीं बरती गई तो रिश्ता बिखर सकता है। इसलिए दोस्ती की जगह पर लेन देन कभी भी न करें। और अगर किसी कारणवश ले भी लिया तो मांगने से पहले आप तय समय पर रुपया लौंटा दें।


स्वंय करें अपना काम(Apne Kam Khud Kaise Kare)

अक्सर लोग दोस्तों से अपना काम करवाने में लगे रहते हैं। जोकि में दोस्ती पर बुरा असर डाल सकता है। इसलिए बेहतर यही है कि कोशिश करें आप अपने सभी काम खुद करें। हां कभी-कबार किसी मुश्किल घड़ी में दोस्त की मदद जरूर ले सकते हैं। लेकिन रोज रोज कहना उचत नहीं इससे उसे लगेगा कि मेरी कोई अहमियत ही नहीं है।

दोस्त पर रखें भरोसा (Trust A Friend)

रिश्ता चाहे कोई भी हो भरोसे की नींव पर ही टिका रहता है। और यहां भी दोस्ती में सबसे अह है विश्वास। इसलिए ध्यान रखें कि कभी अपने दोस्त का विश्वास नहीं तोड़ना चाहिए, जिससे आपके रिश्ते में दरार आए।

दोस्त को अनदेखा न करें (Don't Ignore Friend)

अक्सर ऐसा हो जाता है कि आप अपने दूसरे दोस्तों के साथ व्यस्त होने पर अपने किसी करीबी दोस्त को अनदेखा कर देते हैं। लेकिन आप अपनी दोस्ती हमेशा कायम रखना चाहते हैं तो ऐसा भूल कर भी कभी न करें।

Pallavi Srivastava

Pallavi Srivastava

Next Story