WINTER CARE:सर्दियों में नहीं आएगी दवा काम, मां की झपकी-थपकी से होगा इलाज

सर्दी का मौसम है।  और इस समय जो सर्दी है उसमें अगर खुद का और बच्चों का ध्यान नहीं रखा जाएं तो बीमारी दस्तक देना लाजिमी है।  इसलिए सर्द हवाओं वाली सर्दी में बच्चों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। बच्चों प्यार से संभालने की जरूरत है

Published by suman Published: January 24, 2020 | 10:21 am
Modified: January 24, 2020 | 10:23 am

जयपुर : सर्दी का मौसम है।  और इस समय जो सर्दी है उसमें अगर खुद का और बच्चों का ध्यान नहीं रखा जाएं तो बीमारी दस्तक देना लाजिमी है।  इसलिए सर्द हवाओं वाली सर्दी में बच्चों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। बच्चों प्यार से संभालने की जरूरत है क्योंकि वे शैतान होते है उन्हें शैतानियां अच्छी लगती है ऐसे में अगर मां प्यार थपकी और झपकी  ले तो बच्चे बीमारी सौ कदम दूर रहेंगी।  पुरे साल भर बच्चे नंगे पैर घर में दौड़ते हैं। मगर सर्दी में ध्यान रखे कि आपका लाडला जुराब पहना है।  बस थोड़ी सी सावधानी से आप सर्दी के इस मौसम में स्वस्थ रख सकते हैं। अगर कोई परेशानी है तो इस टिप्स की मदद लें…

 

यह पढ़ें….इस ब्लड ग्रुप वाले कॉफी से करें परहेज, B+वाले पी सकते हैं लेमन टी, जानिए और..

स्किन केयर

*सर्दी के दिनों में अपने बच्चे तीन-चार लेयर में कपडे पहनाएं। इस बात का ध्यान रखें की बच्चे का सर, गाला और हाथ पूरी तरह ढके हुए हों।  सर्दी में बच्चों को स्किन रैशेज ज्यादा होता है क्यूंकि बच्चे दिन भर कपड़ों में ढके रहते हैं।

 

गिले से बचाएं

*बच्चों को सिखाएं की अगर खेलते वक्त वे भीग जाएं तो तुरंत आकर कपड़े चेंज करें। समय-समय पे बच्चे के कपड़ों को देखते रहें की कहीं वे भीग तो नहीं गएं हैं। बड़ों की तुलना में बच्चों का शरीर तापमान को नियंत्रित करने में सक्षम नहीं होता है। इसीलिए  ख्याल रखना पड़ेगा की बच्चे भीगे नहीं, क्योंकि बच्चे तुरंत बीमार पड सकते हैं।

बीमारी से बचाएं

बच्चों के सर्दी में न्यूमोनिया होने का डर रहता है। इससे फेफड़ो पर संक्रमण होता है जिसकी वजह से फेफड़ो में सूजन होती है और उसमें एक प्रकार का गीला पन आ जाता है, जिससे श्वास नली अवरुद्ध हो जाती है और बच्चे को खाँसी आने लगती है।

धूप में निकाले

सर्दी में अगर धूप निकले तो बच्चों के धूप में जीभर कर खेलने दे। जितने देर बच्चे बाहर खेलें, उनके साथ बाहर रहें। सर्दी में मौसम बहुत शुष्कः होता है। और-तो-और अगर  कमरे को गरम रखने के लिए ब्लोअर का इस्तेमाल कर रहें हैं तो कमरे के अंदर नमी का स्तर बेहद कम हो जायेगा।

पानी पिलाएं

बच्चे सर्दी के दिनों में पानी कम पीते हैं। ये मौसम थोड़ा ड्राई होता है बच्चों को दिन भर तरल भोजन देते रहना चाहिए। बच्चा दिन भर में आवश्यकता अनुसार पानी पी ले।

 

यह पढ़ें..माइग्रेन से बचने के लिए यहां जानें घरेलु उपाय, दवाओं से मिलेगा छुटकारा

 

सफाई

हाथों से सबसे ज्यादा और आसानी से संक्रमण फैलता है। बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए ध्यान रखें की वे नियमित रूप से अपने हाथों को धोएं।  उन्हें सिखाएं की टॉयलेट  इस्तेमाल करने के बाद उन्हें अच्छे से साबुन से हाथ धोना चाहिए। भोजन के भी पहले उन्हें साबुन से हाथ धोने की आवश्यकता है।

संक्रमण

अगर सारी कोशिशों के बाद भी  का बच्चा बीमार पडता है तो कोशिश होनी चाहिए की बच्चे को सम्पूर्ण आराम मिलें। सोना और आराम करना भी एक तरीका से बच्चे का शरीर संक्रमण से लड़ता है। बिस्तर पे आराम करने से बच्चा जल्दी ठीक हो जायेगा और साथ है  बच्चों को संक्रमण से बचाना जरुरी है। मगर अगर बच्चे को संक्रमण लग ही जाता है, इससे बच्चे को यह फायदा होता है की उसके शरीर के रोग प्रतिरोधक छमता बढ़ती है।