बच्चे को अकेला छोड़ने से पहले भूल से भी न करें ये नादानियां

आस पड़ोस और इमरजेंसी नंबर की जानकारी उन्हें पहले ही दे दें। उन्हें वो नंबर याद करा दें या फिर फ्रिज या किसी कमरे के दरवाजे पर पेपर पर लिखकर लगा दें। उन्हें समझाएं कि अकेले रहने पर उन्हें स्थिति को कैसे संभालना है।

जयपुर:आज के समय में एकल परिवार की संख्या बढती जा रही है और दोनों पार्टनर के कामकाजी होने की वजह से घर पर बच्चों को अकेले छोड़ना पड़ता हैं जो कि पेरेंट्स के लिए भी एक बड़ी चिंता का विषय हैं। संयुक्त परिवार में व्यक्ति को ऐसी दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता हैं और जीवन आराम से कटता हैं। बच्चों को घर पर अकेले छोड़ने की स्थिति में डर हमेशा बना रहता हैं कि बच्चे के साथ किसी भी प्रकार की कोई अनहोनी ना हो जाए। ऐसे में पेरेंट्स को भी बच्चों को अकेला छोड़ते समय कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए,

*बहुत ज्यादा जरूरी हो तभी बच्चे को लॉक करें वरना उन्हें पूरी तरह से बंद करके बाहर ना जाएं ताकि वो किसी परेशानी में मदद के लिए पड़ोसियों को बुला सकते हैं। यदि पड़ोसियों पर भरोसा हो तो उनसे भी मदद ले सकते हैं तथा दिन में एक दो बार फोन करके बच्चे की स्थिति जान सकते हैं।

जानिए देश में कितने हैं पियक्कड़, केंद्र सरकार ने संसद में बताया

*बच्चों को बताएं कि यदि उन्हें डर लगे तो क्या करना चाहिए। आस पड़ोस और इमरजेंसी नंबर की जानकारी उन्हें पहले ही दे दें। उन्हें वो नंबर याद करा दें या फिर फ्रिज या किसी कमरे के दरवाजे पर पेपर पर लिखकर लगा दें। उन्हें समझाएं कि अकेले रहने पर उन्हें स्थिति को कैसे संभालना है।

*यदि घर में पालतू जानवर है तो बच्चे को उससे सतर्क रहने के लिए कहें। बच्चे को सिखाएं कि आपकी गैरमौजूदगी में वो पेट्स को परेशान ना करें वरना वो बचाव के लिए आक्रमण भी कर सकता है।एकल हो या संयुक्त परिवार खाना बनाने के बाद रसोईघर में गैस के सभी नॉब को बंद करें। घर में बच्चा है तो इसे अपनी आदत में शुमार कर लें और सिलेंडर की नॉब भी नीचे से बंद करें।

इलेक्ट्रिक कारों को लोकप्रिय बनाने के लिए सरकार ने बजट में किया ये बड़ा ऐलान

*घर पर छोटा बच्चा है तो सबसे पहले बिजली के बोर्ड और सॉकेट आदि में टेप लगा दें। जमीन या उसकी पहुंच में आ सकने वाली तारों को भी लपेट दें। गैर-मौजूदगी में बच्चा किसी भी तरह की अनहोनी से बचा रहेगा। इलेक्ट्रॉनिक सामान के अलावा कैंची, सूई, चाकू आदि धारदार सामान को भी बच्चों की पहुंच से दूर कर लें। किसी अलमारी में इन्हें बंद कर दें तो बेहतर रहेगा।

* बच्चे को एकदम से दिनभर के लिए अकेला ना छोड़ें। बच्चों के अंदर भय रहता है और उसे खत्म करना आपकी ही जिम्मेदारी है। आप बच्चे को थोड़ी थोड़ी देर के लिए अकेला छोड़कर उसके डर को कम कर सकते हैं। उससे बात करें और बताएं कि अकेले रहने के दौरान उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है।

रिसर्च: इन फायदों को जानने के बाद, मां या गाय का नहीं, हर कोई पिलाएगा बच्चे को बकरी दूध