Top

#ArrestSharjeelUsmani: शरजील उस्मानी ने कहा- 'जय श्री राम का जाप करने वाला हिंदू आतंकवादी'

शरजील उस्मानी ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उसने लिखा था, "जय श्री राम का जाप करने वाला हिंदू सबसे अधिक आतंकवादी है।"

Network

NetworkNewstrack Network NetworkChitra SinghPublished By Chitra Singh

Published on 18 May 2021 7:49 AM GMT

Arrest Sharjeel Usmani
X

शरजील उस्मानी (फाइल फोटो- सोशल मीडिया) 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर आज शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) टॉप ट्रेंड कर रहा है, साथ ही लोग शरजील उस्मानी को गिरफ्तार करने की भी मांग कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि शरजील उस्मानी जिस तरह से हिन्दूओं के खिलाफ जहर उगला है, वो कतई बर्दाश्त करने लायक नहीं है, उसे जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

आपको बता दें कि हरियाणा में 16 मई को आसिफ नाम के युवक की कथित तौर हत्या कर दी गई। मीडिया रिपोर्ट बताती है कि आसिफ की मौत आपसी रजिश के चलते हुई है। उसका कुछ लोगों से विवाद चल रहा था। इन्हीं रजिशों के चलते आसिफ की मौत हो गई। आसिफ की मौत को लेकर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उसने लिखा था, "जय श्री राम का जाप करने वाला हिंदू सबसे अधिक आतंकवादी है।" इस ट्वीट के साथ शरजील उस्मानी ने हैशटैक जस्टिस फॉर आसिफ का इस्तेमाल किया था। उस्मानी के इस ट्वीट के बाद लोगों ने उस्मानी को गिरफ्तार करने की मांग करने लगे हैं।

शरजील उस्मानी ने आसिफ की मौत को संप्रादायिक एंगल दिया। इस ट्वीट के बाद उस्मानी के एक ट्वीट किया है, जिसमें उसने कहा कि 25-30 हिन्दू लोगों के समूह ने आसिफ की हत्या की है। बता दें कि उस्मानी का इस तरफ का विवादित बयान कोई पहली बार नहीं है, इससे पहले भी उस्मानी ने हिन्दूओं के खिलाफ जहर उगला है। हाल ही रोहित सरदाना के निधन पर शरजील उस्मानी जश्न मना रहा था। उसकी ऐसी ही हरकतों को देखते हुए लोग उसकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

ट्विटर पर एक यूजर ने लिखा है, "आईपीसी की धारा 295ए के तहत यदि कोई जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण रूप से धार्मिक भावनाओं को आहत करता है तो उसे अधिकतम 3 साल की सजा दी जाएगी। हम शिकायत दर्ज कराएंगे।"

वही एक दूसरे यूजर ने लिखा है, "शरजील उस्मानी जैसे लोगों को पहले गिरफ्तार किया जाना चाहिए जिन्होंने धर्म के नाम पर लोगों को भड़काने की कोशिश की।"अल्लाह हू अकबर" या "जय श्री राम" का जाप करने से कोई आतंकवादी या चरमपंथी नहीं हो जाता।"


Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story