Top

कोच के लिए हरभजन ने किया कुंबले का सपोर्ट, बोले- नहीं है उनके साथ किसी का विवाद

By

Published on 1 Jun 2017 3:05 AM GMT

कोच के लिए हरभजन ने किया कुंबले का सपोर्ट, बोले- नहीं है उनके साथ किसी का विवाद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लंदन: अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने बुधवार को अपने पूर्व साथी खिलाड़ी अनिल कुंबले का भारतीय टीम के कोच पद के लिए समर्थन किया है। हाल ही में आई खबरों के मुताबिक कुंबले के सख्त रवैये के कारण टीम के कप्तान विराट कोहली और उनके बीच विवाद उपजा था।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने पिछले सप्ताह कुंबले का कार्यकाल खत्म होने के बाद नए कोच की नियुक्ति के लिए आवेदन मंगााए हैं। कुंबले का एक साल का कार्यकाल चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद खत्म हो रहा है।

हरभजन ने समाचार चैनल आज तक के सलाम क्रिकेट कांक्लेव में कहा, "अनिल कुंबले सख्त हैं। आप उनसे हमेशा क्रिकेट के बारे में बात कर सकते हैं। वह काफी मेहनती हैं और उनका मानना है कि मैच में अंतिम गेंद तक हार नहीं माननी चाहिए। वह सख्त हैं लेकिन प्रतिभा से ज्यादा मेहनत को तरजीह देते हैं। एक कोच के तौर पर वह भारतीय क्रिकेट में काफी कुछ बदलाव ला सकते हैं। आप उनके पिछले साल के परिणाम ही देख लें।"

उन्होंने कहा, "मौजूदा खिलाड़ी ही बता सकते हैं कि उनके अनिल भाई के साथ रिश्ते कैसे हैं। मैंने उनके साथ 15 साल बिताए हैं लेकिन एक बार भी हममें विवाद नहीं हुआ। क्रिकेट में, खासकर गेंदबाजी में उनके पास काफी दिमाग है। वह आपकी हमेशा मदद करते हैं। मैं जो कुछ हूं वहां तक पहुंचने में उनका बड़ा हाथ है।"

हरभजन ने कहा कि वह ड्रेसिंग रूम के बारे में कुछ नहीं कह सकते।

उन्होंने कहा, "मैं इस टीम का हिस्सा नहीं हूं और मैं नहीं जानता कि अनिल भाई किस तरह से टीम चला रहे हैं। मैं खिलाड़ियों से बात नहीं करता कि क्या चल रहा है। अगर किसी को कुंबले से परेशानी है तो उसे जाकर उनसे बात करनी चाहिए, क्योंकि वह सम्माननीय इंसान हैं। मैं अपने अनुभव से कह सकता हूं कि उनका किसी के साथ विवाद नहीं हो सकता।"

उन्होंने कहा, "बात करना ही किसी भी समस्या का हल है। अगर ऐसा कुछ है तो वह इसे सुलझा सकते हैं। उनकी जगह कोई नहीं ले सकता।"

सौजन्य: आईएएनएस

Next Story