Top

Kumble vs Kohli : खिलाड़ी के रूप में कुंबले का सम्मान करता हूं

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 23 Jun 2017 11:44 AM GMT

Kumble vs Kohli : खिलाड़ी के रूप में कुंबले का सम्मान करता हूं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पोर्ट ऑफ स्पेन : भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने टीम के मुख्य कोच पद से इस्तीफा देने वाले अनिल कुंबले से टकराव पर किसी तरह का सीधा बयान देने से बचते हुए कहा कि वह एक खिलाड़ी के तौर पर कुंबले का सम्मान करते हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि ड्रेसिंग रूम में कई तरह की बातें होती हैं, जिन्हें वह सार्वजनिक नहीं कर सकते। कोहली ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, "कुंबले के प्रति एक क्रिकेट खिलाड़ी के तौर पर मेरे मन में बहुत सम्मान है। उन्होंने देश के लिए बहुत कुछ हासिल किया है। इस तथ्य को कोई नहीं नकार सकता और हम पूर्ण रूप से इसका सम्मान करते हैं।"

उल्लेखनीय है कि भारतीय टीम वेस्टइंडीज के साथ पांच वन-डे मैचों की सीरीज के लिए यहां है। भारतीय टीम के कप्तान कोहली ने कहा, "कुंबले भाई ने अपने विचारों को साझा करते हुए कोच पद से हटने का फैसला किया। हम सब इस फैसले का सम्मान करते हैं। ऐसा चैम्पियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट के ठीक बाद हुआ।"

कोहली से जब कुंबले के साथ टकराव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "ड्रेसिंग रूम में कई तरह की बातें होती हैं और इन्हें सार्वजनिक कर मैं क्रिकेट जगत की परंपरा नहीं तोड़ सकता।"

उन्होंने कहा, "मैंने चैम्पियंस ट्रॉफी के दौरान 11 संवाददाता सम्मेलनों में हिस्सा लिया। पिछले तीन-चार साल में हमने एक परंपरा शुरू की है, जिसके तहत हमने ड्रेसिंग रूम में होने वाली किसी भी चीज को जाहिर न करने का फैसला लिया है और इस पर हम बरकरार हैं।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story