Top

छोटी उम्र में अजहान ने स्वर्ण पदक जीतकर जिले का नाम रोशन किया

raghvendra

raghvendraBy raghvendra

Published on 8 Dec 2017 12:04 PM GMT

छोटी उम्र में अजहान ने स्वर्ण पदक जीतकर जिले का नाम रोशन किया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

तेज प्रताप सिंह

गोंडा। कहते हैं कि प्रतिभा किसी उम्र की मोहताज नहीं होती। प्रतिभा बचपन से ही झलकने लगती है। ऐसे प्रतिभावान बच्चे उस क्षेत्र में अपना मुकाम जरूर हासिल करते हैं जिसे वह अपना लक्ष्य बना लेते है। ऐसा ही करनामा कर दिखाया है गोंडा जिले के अजहान खान ने। उन्होंने महज आठ साल की उम्र में उप्र तीसरी राज्यस्तरीय अंडर-10 ओलम्पिक प्रतियोगिता में तीरंदाजी और एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीतकर जिले का नाम रोशन किया है। इस प्रतियोगिता में पदक जीतने वालों को हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में होने वाली राष्ट्रीय प्रतियोगिता में अपना जौहर दिखाने का मौका मिलेगा।

स्टूडेंट ओलम्पिक एसोसिएशन,उत्तर प्रदेश की ओर से बाराबंकी जनपद में आयोजित दो दिवसीय तीरंदाजी और एथलेटिक्स प्रतियोगिता में प्रदेश भर से 400 छात्रों ने हिस्सा लिया था। जिले के प्रतिष्ठित फातिमा कालेज के कक्षा तीन के छात्र अजहान ने 50 मीटर की दौड़ में प्रथम स्थान पाकर गोल्ड मेडल प्राप्त किया और राज्यस्तरीय तीरंदाजी प्रतियोगिता में भी पदक जीता। मुख्यालय के फैजाबाद रोड निवासी अजहान की मां आसमा व पिता मो. जुबेर खान ने बताया कि अजहान बचपन से ही खेल प्रतियोगिताओं में बढ़-चढक़र हिस्सा लेता रहा है। अंडर टेन छात्रों की राज्यस्तरीय प्रतियोगिता बाराबंकी में आयोजित होने की जानकारी होने पर अजहान ने उसकी तैयारी शुरू कर दी। अजहान ने माता-पिता से कामयाबी हासिल करने का वादा किया। स्टूडेन्ट ओलम्पिक एसोसिएशन की जिलायक्ष निधि जैन ने बताया कि इस प्रतियोगिता में पूरे प्रदेश से 400 खिलाडिय़ों ने हिस्सा लिया था। अजहान ने इस उपलब्धि का श्रेय माता, पिता और दादा मो.सईद खान को दिया है। अजहान खान की इस उपलब्धि पर कक्षाध्यापिका जीनू हसन और प्राचार्य ने खुशी जाहिर की है।

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story