Top

रियो में साइकिल ट्रैक के पास धमाका, बैग में था विस्फोटक

ओलंपिक की मेजबानी कर रहे रियो में धमाका हुआ है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक साइकिल ट्रैक के पास धमाका हुआ है। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

aman

amanBy aman

Published on 6 Aug 2016 5:04 PM GMT

रियो में साइकिल ट्रैक के पास धमाका, बैग में था विस्फोटक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रियो डिजेनिरियो : ओलंपिक की मेजबानी कर रहे रियो में धमाका हुआ है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक साइकिल ट्रैक के पास धमाका हुआ है। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। बताया जा रहा है कि साइकिल ट्रैक के पास से एक बैग बरामद हुआ था जिसमें विस्फोटक था। बम निरोधक दस्ता इसे निष्क्रिय करने का प्रयास कर रहा था उसी वक्त धमाका हुआ। हालांकि इस धमाके से कोई हताहत नहीं हुआ।

यहां ओलंपिक के पुरुष साइक्लिंग रोड रेस के दौरान शनिवार को फिनिशिंग लाइन के पास जोरदार धमाका हुआ। हालांकि, इसमें किसी के घायल होने की खबर नहीं है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि धमाके की आवाज से लोग चौंके जरूर, लेकिन कोई सनसनी नहीं फैली।

धमाके के तुरंत बाद बम निरोधक स्क्वॉड के कर्मचारी मौके पर पहुंचे। ये धमाका प्रेस ट्रिब्यून के पास हुआ। धमाके की वजह का तुरंत पता नहीं चला है।

बेहद कड़ी सुरक्षा, आईएस का खतरा

हालांकि रियो ओलंपिक की सुरक्षा व्यवस्था में 85,000 सुरक्षाकर्मियों को लगाया गया है। आईएस के खतरे को देखते हुए लंदन ओलंपिक की तुलना में यहां दोगुना सुरक्षाकर्मियों को लगाया है। ब्राजील सरकार ने सुरक्षा व्यवस्था पर 860 मिलियन डॉलर खर्च किये हैं। बावजूद इसके आईएस का खतरा बरकरार है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story