Top

बेआबरू होकर कूचे से निकले! चैम्पियंस ट्रॉफी में नहीं चला सौम्य, शब्बीर का बल्ला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 16 Jun 2017 1:41 PM GMT

बेआबरू होकर कूचे से निकले! चैम्पियंस ट्रॉफी में नहीं चला सौम्य, शब्बीर का बल्ला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ढाका : बांग्लादेश के युवा बल्लेबाज सौम्य सरकार और शब्बीर रहमान के बल्ले का जादू आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में नहीं चल पाया। प्रशंसकों को इन दो बल्लेबाजों से काफी उम्मीदें थी, जिस पर वे खरे नहीं उतर पाए।

इस चैम्पियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट में तमीम इकबाल, मुश्फिकुर रहीम, शाकिब अल-हसन और महमुदुल्लाह ने प्रशंसकों की उम्मीदों को नहीं तोड़ा, लेकिन बांग्लादेश टीम की युवा पीढ़ी इस जिम्मेदारी को संभाल नहीं पा रही है और यह चिंता की बात है।

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के 24 वर्षीय खिलाड़ी सौम्य ने टूर्नामेंट में कुल 34 रन और 25 वर्षीय खिलाड़ी शब्बीर ने 59 रन ही बनाए।

कोच चंडिका हथरुसिंघा की इच्छा शब्बीर को स्थायी रूप से टीम में तीसरे नंबर के बल्लेबाज के तौर पर रखने की थी, लेकिन पिछले साल अक्टूबर से ही उनकी फॉर्म में गिरावट आई है और वह 14 वनडे मैचों में केवल तीन अर्धशतक ही लगा पाए हैं।

चैम्पियंस ट्रॉफी में बांग्लादेश ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए पहली बार सेमीफाइनल तक का मार्ग तय किया था। हालांकि, सेमीफाइनल में नौ विकेट से मिली हार के कारण टीम का अभियान समाप्त हो गया।

आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट का फाइनल मैच पाकिस्तान और भारत के बीच रविवार को द ओवल मैदान पर खेला जाएगा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story