Top

फटाफट क्रिकेट के दौर में 10 हजारी बने कोहली, रनों का पीछा करने में महारत

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 25 Oct 2018 8:13 AM GMT

फटाफट क्रिकेट के दौर में 10 हजारी बने कोहली, रनों का पीछा करने में महारत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबई: क्रिकेट जगत में आज भी जब किसी खिलाड़ी की काबिलियत को नापा जाता है, तो उसकी तुलना सबसे पहले क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर से की जाती है। जिस विशाखापट्टनम के मैदान में विराट का पिछली 5 इनिंग्स में स्कोर महज 65 रन था, उसी मैदान पर विराट को सबसे तेज 10 हजारी बनने के लिये 81 रनों की दरकरार थी। कोहली ने उसी अंदाज में 10000 रनों के मील के पत्थर को छुआ,जिस अंदाज में सचिन ने 2001 में छुआ था। सचिन ने सन् 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इंदौर में 139 रन की पारी खेलकर 10000 रन के क्लब में एंट्री की थी। कोहली ने भी धमाकेदार 157 रन जड़कर इस कल्ब में रिकॉर्ड के साथ एंट्री ली। अब कोहली इस क्लब में एंट्री करने वाले भारत की तरफ से चौथे और दुनिया के 13वें खिलाड़ी बन गये है। कोहली महज 11 पारियां खेलकर 9000 से 10000 हजारी क्लब के सदस्य बनें है।

यह भी पढ़ें ......विशाखापट्टनम वनडे : कोहली की कप्तानी में भारत का पहला टाई मैच

इस शतक के बाद आज पूरे क्रिकेट जगत और खेल प्रेमियों के बीच सचिन और कोहली के आंकड़ों को लेकर बहस शुरू हो गई है। आइयें एक नजर डालते है सचिन-कोहली के रिकॉर्ड और उनके आकड़ों परः

अगर दोनों खिलाड़ियों के 10000 रनों के शिखर तक पहुंचने के सफर को देखें तो, जहां सचिन ने 259 इनिंग्स में 42.63 के औसत से इस आकड़ें को छुआ था,वहीं दूसरी ओर विराट ने महज 205 इनिंग्स में 59.62 के औसत से 10 हजारी क्लब में गृहप्रवेश किया। अगर देखा जाये तो कोहली ने सचिन से प्रति इनिंग्स और सेंचुरी 21% बेहतर परफॉर्मेंस की। कोहली ने सचिन से 40% अधिक स्ट्राइक रेट से भी रन बनाये।

यह भी पढ़ें ......ICC ने जारी की टेस्ट रैंकिंग, कोहली शीर्ष पर बरकरार

सचिन बने सबसे अधिक बार मैच ऑफ द मैच

सचिन और कोहली के बीच एक दिलचस्प आंकड़ा ये भी है कि सचिन ने जब अपने 10 हजार रन पूरे किये तो उनका टीम के कुल रनों में व्यक्तिगत रनों का औसत योगदान 19.3% था, वहीं कोहली का औसत 20.2% था। सचिन इस मुकाम तक पहुंचते-पहुंचते 38 बार मैन ऑफ द मैच बन चुके थे और कोहली कुल 30 बार मैन आॅफ द मैच बने।

यह भी पढ़ें ......विराट कोहली चाहते हैं कि पूरे टूर में अनुष्का का साथ, BCCI नहीं तैयार

रनों का पीछा करने में माहिर कोहली

क्रिकेट में रनों का पीछा करने वाले खिलाड़ी का कद हमेशा बड़ा माना जाता है। कोहली ने 205 पारियों मे से 28 बार नॉट ऑउट रहते हुए 116 पारियों में रनों का पीछा किया है,जिसमें विराट ने 68.54 के औसत और 94.51 के स्ट्राइक रेट से रन बनाये है। वहीं सचिन ने 10 हजारी बनने तक 97 पारियों में 50.29 के औसत से दूसरी पारी में बैटिंग की है। इस दौरान सचिन का स्ट्राइक रेट कोहली से कुछ बेहतर 94.66 का रहा।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story