Top

FIFA 2018: जब स्पेन के लिए इस खिलाड़ी ने किया गोल, इंसुलिन किट लेकर चलने को है मजबूर

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 17 Jun 2018 7:30 AM GMT

FIFA 2018: जब स्पेन के लिए इस खिलाड़ी ने किया गोल, इंसुलिन किट लेकर चलने को है मजबूर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रूस : रूस में फीफा वर्ल्ड कप चल रहा है लेकिन यहां बात स्पेन के एक ऐसे खिलाड़ी की हो रही है जो डायबिटिक 1 का मरीज है और मैदान में इंसुलिन का इंजेक्शन ले कर उतरता है। नाम है जोसे इग्नैसियो फ़र्नांडिज़ इग्लेसियस लेकिन फ़ुटबॉल की दुनिया में उसे नाचो के नाम से जाना जाता है।

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप : आज मेक्सिको से भिड़ेगा जर्मनी

दो साल पहले नाचो ने बताया था कि वो 12 साल की उम्र से ही टाइप-1 डायबिटीज़ से लड़ रहे हैं। ऐसी बीमारी जो उनका करियर ख़़त्म कर सकती थी। उस समय वे रियल मैड्रिड की यूथ टीम में ट्रेनिंग ले रहे थे।

फीफा वर्ल्ड कप के दूसरे दिन हुए मैच में बन गए थे विलेन

डॉक्टरों ने कह दिया था कि वे कभी फ़ुटबॉल नहीं खेल सकते, लेकिन नाचो ने हिम्मत नहीं हारी और संघर्ष जारी रखा। जब उन्होंने दोबारा डॉक्टरों से सलाह ली, तो उन्हें कहा गया कि वे अपना सपना पूरा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप : सर्बिया के सामने होगा कोस्टा रिका

रूस में चल रहे वर्ल्ड कप फ़ुटबॉल के 15 जून को दूसरे दिन नाचो पुर्तगाल के साथ मैच में पहले विलेन बने लेकिन बाद में में हीरो बन के उभरे। पुर्तगाल और स्पेन के मैच में फुटबॉल प्रेमियों की निगाहें रोनाल्डो पर थी। रोनाल्डो ने 3 गोल कर अपनी टीम को बराबरी पर ला दिया था।

रोचक था मुकाबला

स्टार खिलाड़ियों वाली टीमों के बीच मुक़ाबला टक्कर वाला और रोचक होना था और हुआ भी यही तथा मुक़ाबला 3-3 से बराबरी पर छूटा। नाचो इस मैच में चार मिनट में ही विलेन बन गए थे।

यह भी पढ़ें: फीफा विश्व कप : क्रोएशिया ने नाइजीरिया को 2-0 से पराजित किया

हुआ यह था कि उनके फाउल के कारण पुर्तगाल को पेनाल्टी मिली और रोनाल्डो ने उसे गोल में तब्दील कर दिया लेकिन मैच खत्म होते-होते वो खिलाड़ी किसी हीरो से कम नहीं था। नाचो की उम्र 28 साल है ओर वो दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित फ़ुटबॉल क्लब रियल मैड्रिड का डिफ़ेंडर हैं।

इस क्षण को भूलना नहीं चाहेंगे नाचो

मैच में नाचो के लिए वो क्षण आया, जिसे वो कभी नहीं भूलना चाहेंगे। मैच दूसरे हाफ में 2.2 की बराबरी पर चल रहा था। दूसरे हाफ़ में स्पेन की टीम पुर्तगाल पर हावी थी और एक के एक आक्रमण कर रही थी। ऐसा ही एक मौक़ा उस समय आया, जब पुर्तगाल के गोल बॉक्स से गेंद उछलते हुए नाचो के पास पहुंची। लेफ़्ट बैक नाचो के लिए यह एक परफ़ेक्ट मौक़ा था, उन्होंने शानदार हाफ़ बॉली लगाई और गेंद हवा में घूमती हुई पुर्तगाल के दाएं गोलपोस्ट से टकराई और घूमते हुए नेट में पहुंच गई।

यह भी पढ़ें: अनफिट रायुडू की जगह लेंगे रैना

स्पेन के खिलाड़ी नाचो को चूम रहे थे, उन्हें गले लगा रहे थे। स्टेडियम में उनके प्रशंसकों का मन ये शानदार गोल देखकर भीग गया था। हो भी क्यों न नाचो का अपने देश के लिए पहला अंतरराष्ट्रीय गोल था।

फ़ुटबॉल के कई जानकार कह रहे हैं कि शायद नाचो का ये गोल स्पेन के लिए इस वर्ल्ड कप का सबसे बेहतरीन गोल भी साबित हो। एक फ़ुटबॉल खिलाड़ी के रूप में स्पेन में नाचो बड़ा नाम है और उनके छोटे भाई एलेक्स भी फुटबॉलर हैं लेकिन लंबे समय तक नाचो ने दुनिया को ये नहीं बताया कि इस मुकाम तक पहुंचने के लिए उन्होंने कितनी परेशानियां झेली हैं।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story