Top

पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान बने NIFT के चेयरमैन, PM मोदी को कहा शुक्रिया

By

Published on 18 Jun 2016 10:36 AM GMT

पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान बने NIFT के चेयरमैन, PM मोदी को कहा शुक्रिया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : पूर्व क्रिकेटर और दो बार बीजेपी प्रेसिडेंट रह चुके चेतन चौहान को नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ फैशन टैक्‍नोलॉजी (NIFT) का चेयरमैन बनाया गया है। इसके लिए चेतन ने पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह को धन्‍यवाद दिया। चौहान वर्तमान में दिल्‍ली जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के उपाध्‍यक्ष और बीसीसीआई के वरिष्‍ठ अधिकारी हैं।

एनआईएफटी एक्‍ट 2006 के अनुसार प्रमुख अकादमिक, वैज्ञानिक या टेक्‍नोलॉजिस्‍ट या प्रोफेशनल को राष्‍ट्रपति द्वारा बॉर्ड ऑफ गवर्नर्स का चेयरपर्सन बनाया जा सकता है।

इस पद का कार्यकाल तीन साल के लिए होता है।

किकेट और बैंकिंग क्षेत्र में अनुभव

-चेतन ने कहा कि यह नियुक्ति भारत सरकार ने की है।

-टैक्‍सटाइल्‍स मंत्रालय ने इस पद के लिए नाम भेजे थे।

-उन्‍होंने कई नामों की जांच करने के बाद मेरा नाम चुना क्‍योंकि मैं इंटरनेश्नल प्लेयर हूं और मुझे बैंकिंग में अनुभव है।

-मैंने दिल्‍ली में बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ स्‍केल-4 ऑफिसर के रूप में काम किया।

-23 साल तक मैंने बैंकिंग में काम किया।

कौन हैं चेतन चौहान?

-68 साल के चौहान ने 1969 में टेस्ट डेब्यू किया। 1981 में आखिरी टेस्ट खेला।

-40 टेस्ट्स में उन्होंने 2084 रन बनाए। खास बात ये है कि चौहान ने कभी कोई टेस्ट सेंचुरी नहीं लगाई।

-उन्होंने 11 हजार रन फर्स्ट क्लास क्रिकेट में बनाए। वो एक कामयाब बैंकर भी रह चुके हैं।

-क्रिकेटिंग करियर के दौरान उन्हें काफी फैशनेबल माना जाता था।

-चेतन का मानना है कि मैं उम्र के हिसाब से कपड़े पहनने में यकीन रखता हूं।

देंगे हर काम को वक्त

-चेतन चौहान ने बताया कि मैं अपना 60 प्रतिशत समय डीडीसीए, 30 प्रतिशत एनआईएफटी और 30 प्रतिशत मेरी कंपनी कारेल न्‍यूजप्रिंट को दूंगा।

-एनआईएफटी में काम के बारे में चौहान ने कहा हमारे यहां बोर्ड ऑफ गवर्नर्स और एक सीनेट होता है।

-इसमें डायरेक्‍टर्स और चेयरपर्सन्‍स होते हैं।

-बोर्ड ऑफ गवर्नर्स सबसे बड़ी बॉडी होती है।

-मैं इसका चेयरमैन हूं। सभी बड़े फैसले बोर्ड मीटिंग में लिए जाते हैं।

Next Story