×

Halal Meat BCCI: 'हलाल' मीट विवाद बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'खिलाड़ी खाने के लिए स्वतंत्र हैं'

Halal Meat BCCI: बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने 'हलाल' मीट विवाद के सभी रिपोर्टों का खंडन किया है और कहा कि तथाकथित डाइट प्लान पर कभी चर्चा नहीं हुई और न ही इसे लागू किया जाएगा।

Chitra Singh

Chitra SinghWritten By Chitra SinghNetworkNewstrack Network

Published on 24 Nov 2021 3:27 AM GMT

halal meat controversy
X

 बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अरुण धूमल (डिजाइन फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Halal Meat BCCI: 'हलाल' मीट विवाद (halal meat controversy) को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल (BCCI treasurer Arun Dhumal) ने अपनी तोड़ी है और खिलाड़ियों को सिर्फ हलाल मीट परोसे जाने वाली बात को खारिज किया है। उन्होंने हलाल मीट विवाद पर सफाई देते हुए कहा है कि खिलाड़ी जो चाहे वो खा सकते है। खाने के लिए वे स्वतंत्र हैं।

भारत और न्यूजीलैंड (IND vs NZ Test) के बीच कानपुर में शुरू होने वाले पहले टेस्ट से पहले, भारतीय क्रिकेटरों के आहार में 'हलाल' मीट (halal meat indian cricket team) की कथित सिफारिश ने एक बड़ा विवाद खड़ा कर दिया। वहीं सोशल मीडिया पर हलाल मीट इंडिया क्रिकेट (halal meat india cricket) के लिए बहस का एक बड़ा विषय बन गया। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि आगामी आयोजनों से पहले खिलाड़ियों के स्वास्थ्य और फिटनेस को सुनिश्चित करने के लिए बीसीसीआई ने एक नया डाइट प्लान (diet plan for indian cricketers) पेश किया है।

ट्विटर पर टॉप ट्रेंडिंग पर रहा #BCCI_Promotes_Halal

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि बीसीसीआई के फैसले ने नेटिज़न्स को विभाजित कर दिया। जहां कई लोग बोर्ड के इस कदम की आलोचना कर रहे हैं तो कुछ खुश भी है। वहीं ट्विटर पर गुरुवार (23 नवंबर) से #BCCI_Promotes_Halal टॉप ट्रेंडिंग लिस्ट में है और लोग लगातार अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं। हालांकि इस विवाद को बढ़ता देख बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल (Arun Dhumal bcci) सामने आए और इस मामले पर सफाई दी।

बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल का बयान

धूमल (Arun Dhumal) ने एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान कहा, "बीसीसीआई ने किसी खिलाड़ी या टीम स्टाफ को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, इस बारे में कोई निर्देश नहीं दिया है। ये सभी अफवाहें निराधार हैं।" उन्होंने आगे कहा, "डाइट प्लान पर कभी चर्चा नहीं हुई और ना ही कभी इसे लागू किया जाएगा। बोर्ड किसी को भी यह सलाह नहीं देता है कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं। वे अपना भोजन खुद चुनने के लिए स्वतंत्र हैं।"

क्या है 'हलाल' मीट विवाद

दरअसल गुरुवार (25 नवंबर) को कानपुर में शुरू हो रहे भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट मैच (India Vs New Zealand Test) से पहले भारतीय टीम का कैटरिंग मेन्यू सामने आया। इस मैन्यू में साफ-साफ लिखा था, "बीफ और पोक नहीं परोसा जाएगा।" इसके अलावा ये भी बताया गया कि खिलाड़ियों को केवल 'हलाल' मीट खाने की अनुमति है। वहीं पहले रिपोर्ट में दावा किया गया था कि बीसीसीआई ने टीम इंडिया की नई आहार व्यवस्था पर प्रतिबंध लगा दिया है। हालांकि, बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने सभी रिपोर्टों का खंडन किया है और कहा कि तथाकथित डाइट प्लान पर कभी चर्चा नहीं हुई और न ही इसे लागू किया जाएगा।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story