Top

ICC ने बदले नियम, 'बेकाबू' क्रिकेटरों को अब जाना होगा मैदान से बाहर

aman

amanBy aman

Published on 26 Sep 2017 11:27 AM GMT

ICC ने बदले नियम, बेकाबू क्रिकेटरों को अब जाना होगा मैदान से बाहर
X
ICC ने बदले नियम, 'बेकाबू' क्रिकेटरों को अब जाना होगा मैदान से बाहर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दुबई: विश्व क्रिकेट की नियंत्रक संस्था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानि आईसीसी ने मंगलवार (26 सितंबर) को साफ कर दिया कि जो खिलाड़ी मैदान के भीतर अपने व्यवहार या हरकतों को लेकर 'बेकाबू' होंगे, उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। यह सब ठीक वैसे ही होगा, जैसा फुटबाल में होता है।

अंपायर को धमकाना, अंपायर के साथ गलत तरीके और जानबूझकर किए गए शारीरिक संपर्क, किसी खिलाड़ी या अन्य सदस्य के साथ हिंसक व्यवहार या किसी अन्य प्रकार का हिंसक व्यवहार करने पर खिलाड़ी को लेवल-4 का दोषी माना जाएगा। इसके लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही सजा होगी, वह है मैदान से बाहर जाना।

ये भी पढ़ें ...महिला हॉकी : इस टीम पर है विश्व कप में सीधे प्रवेश हासिल करने दारोमदार

बाहर गए तो फिर वापसी नहीं

इसमें खास बात यह है कि लेवल- 4 के दोषी खिलाड़ी की मैदान के बाहर जाने के बाद फिर वापसी नहीं होगी। इसके अलावा, लेवल 1-3 के बीच शामिल गलत व्यवहार पर आईसीसी की आचार संहिता वैसा ही रवैया अपनाएगी, जैसा वह अपनाती रही है। इन मामलों में आईसीसी मैच रेफरी और मैदानी अम्पायरों की राय लेकर सजा का ऐलान करेगी।

अन्य नियमों भी बदलाव

इन नए नियमों में बल्ले के आयामों तथा निर्णय समीक्षा प्रणाली (डीआरस) में भी कुछ बदलाव किए गए हैं, जो सभी सीरीज में लागू किए जाएंगे। बल्ले की लंबाई और चौड़ाई में किसी प्रकार का बदलाव नहीं आया है। लेकिन बल्ले के ऐज (कोण) की मोटाई 40 मिलीमीटर से अधिक नहीं होनी चाहिए और इसकी गहराई अधिक से अधिक 67 मिलीमीटर तक होनी चाहिए। इसके तहत, अंपायरों को जल्द ही बल्ले के नाप के बारे में जानकारी दे दी जाएगी, ताकि वे बल्ले की वैधता जांच सकें।

ये भी पढ़ें ...बायोपिक बयां करेगी मिताली राज की कहानी, किन संघर्षों से गुजरी उनकी जिंदगानी

नहीं होंगे टॉपअप रिव्यू

डीआरएस में किए गए बदलावों के तहत टेस्ट मैचों में टॉपअप रिव्यू नहीं होंगे। टॉपअप रिव्यू में टीमों को 80 ओवरों के बाद दो और रिव्यू दिए जाते थे, जो अब नहीं दिए जाएंगे। इसका साफ मतलब यह है कि प्रत्येक पारी में केवल दो असफल रिव्यू होंगे।

अब टी-20 मैचों में भी डीआरएस का इस्तेमाल

आईसीसी ने अपने एक बयान में कहा है, कि नए नियमों के तहत टी-20 मैचों में भी डीआरस का इस्तेमाल किया जा सकेगा।दक्षिण अफ्रीका-बांग्लादेश् और पाकिस्तान-श्रीलंका के बीच खेली जाने वाली सीरीज इन नए नियमों के तहत खेली जाएगी।

ये भी पढ़ें ...सचिन क्लब में पृथ्वी शॉ शामिल, दिलीप ट्राफी में शतक जड़ने वाले सबसे कम उम्र के बल्लेबाज

आईएएनएस

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story