Top

तीसरा टेस्टः WI की ठोस शुरुआत, पहली पारी में 1 विकेट पर 107 रन

By

Published on 10 Aug 2016 11:13 PM GMT

तीसरा टेस्टः WI की ठोस शुरुआत, पहली पारी में 1 विकेट पर 107 रन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सेंट लुसियाः टीम इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच तीसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन भारत ने पहली पारी में 353 रन बनाए। इसमें रविचंद्रन अश्विन ने 118 और रिद्धिमान साहा ने 104 रन की शानदार पारी खेली। विंडीज के लिए मिगेल कमिंस और अल्जारी जोसेफ ने 3-3 विकेट लिए। दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम ने पहली पारी में 1 विकेट खोकर 107 रन बना लिए थे। विंडीज अभी भी भारत से 246 रन पीछे है। उसके क्रेग ब्रेथवेट (53) और डैरेन ब्रावो (18) नॉटआउट हैं।

ऐसी रही विंडीज की पारी

विंडीज को पहला झटका लियोन जॉनसन के रूप में लगा। वह रन लेने की कोशिश में लोकेश राहुल के सीधे थ्रो पर आउट हो गए। जॉनसन अच्छी बैटिंग कर रहे थे, लेकिन 23 रन बनाकर आउट हो गए। ब्रेथवेट ने गेंद पर अपने बल्ले का वेट लगाते हुए शानदार हाफ सेंचुरी ठोक दी। इसमें उनके 6 चौके भी शामिल हैं।

अश्विन-साहा का कमाल

टीम इंडिया की ओर से पहली पारी में अश्विन और साहा ने छठे विकेट के लिए 213 रन की पार्टनरशिप की। इस मैच में ये भारत के लिए सबसे बड़ी पार्टनरशिप रही। अश्विन और साहा की ये पार्टनरशिप विदेशी धरती पर छठे विकेट के लिए भारत की दूसरी सबसे बड़ी पार्टनरशिप भी है। इस विकेट के लिए सबसे ज्यादा पार्टनरशिप का रिकॉर्ड (222 रन) अजहरुद्दीन और तेंडुंलकर के नाम है। जो उन्होंने जनवरी 1997 में केपटाउन में अफ्रीका के खिलाफ खेली थी। भारत की टेस्ट हिस्ट्री में ये पहला मौका है जब एक ही पारी में छठे और सातवें बैट्समैन ने शतक ठोके हैं।

अश्विन की चौथी, साहा की पहली सेंचुरी

अश्विन ने इस मैच में अपने टेस्ट करियर की चौथी सेन्चुरी लगाई। उनकी सभी सेंचुरी वेस्टइंडीज के ही खिलाफ हैं। उन्होंने 100 रन 265 गेंदों पर पूरे किए। इस दौरान अश्विन ने सिर्फ 5 चौके और एक छक्का जड़ा। अश्विन 118 रन बनाकर आउट हुए। वहीं, रिद्धिमान साहा ने अपने टेस्ट करियर की पहली सेंचुरी लगाई। साहा ने 223 गेंदों में शतक लगाया। उनकी पारी में 12 चौके भी रहे।

Next Story