×

RIO: क्यूबा के बॉक्सर के सामने नहीं टिक पाए शिव थापा, हारकर ओलंपिक से बाहर

aman

amanBy aman

Published on 11 Aug 2016 4:27 PM GMT

RIO: क्यूबा के बॉक्सर के सामने नहीं टिक पाए शिव थापा, हारकर ओलंपिक से बाहर
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

रियो डी जेनेरियो : भारतीय बॉक्‍सर शिव थापा (56 किग्रा) गुरुवार को पहले दौर के मुकाबले में चौथी वरीयता वाले क्यूबा के रोबेसी रॉमिरेज से हार गए। इस शिकस्त के साथ ही शिव थापा रियो ओलंपिक से बाहर हो गए। अपने दूसरे ओलंपिक में हिस्सा ले रहे 22 साल के शिव को एकतरफा मुकाबले में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा।

पहले राउंड में दोनों मुक्केबाजों ने ही अच्छी शुरुआत की। दोनों काफी सतर्क थे। गौरतलब है कि ये दोनों ही मुक्केबाज जूनियर टूर्नामेंटों में एक साथ खेल चुके हैं। तभी से ये एक-दूसरे के खेल से परिचित हैं। गुरुवार के मुकाबले से पहले रमीरेज ने भारतीय मुक्केबाज के खिलाफ अपने दोनों मैच जीते थे। वह तीसरी जीत दर्ज करने में भी कामयाब रहे।

क्यूबा का मुक्केबाज शुरू से रहा हावी

लंदन ओलंपिक में फ्लाइवेट वर्ग के स्वर्ण पदक विजेता रमीरेज ने दायें हाथ से कुछ अच्छे पंच मारे। क्यूबा के मुक्केबाज ने शानदार फुटवर्क दिखाया और शिव के डिफेंस को भेदने में कामयाबी हासिल की। दूसरे राउंड में भी विश्व चैम्पियनशिप के कांस्य पदक विजेता शिव को रॉमिरेज के खिलाफ जूझना पड़ा। तीसरे राउंड में भी कुछ नया देखने को नहीं मिला। वहीं रमीरेज ने दबदबा कायम रखा और जीत दर्ज की।

अब नजर विकास कृष्ण और मनोज कुमार पर

शिव को चार साल पहले ओलंपिक में पदार्पण के दौरान भी पहले दौर में ही हार का सामना करना पड़ा था। भारतीय उम्मीदों का भार अब विकास कृष्ण (75 किग्रा) और मनोज कुमार (64 किग्रा) पर है। दोनों प्री क्वार्टर फाइनल में जगह बना चुके हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story