Top

रियो से लौटी हॉकी प्लेयर्स ने ट्रेन की फर्श पर बैठ किया सफर, रेलवे का इंकार

aman

amanBy aman

Published on 29 Aug 2016 10:45 AM GMT

रियो से लौटी हॉकी प्लेयर्स ने ट्रेन की फर्श पर बैठ किया सफर, रेलवे का इंकार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : भारतीय महिला हॉकी टीम के खिलाड़ियों से जुडी एक शर्मनाक घटना सामने आई है। जानकारी के अनुसार टीम की चार महिला खिलाडि़यों को ट्रेन में सीट नहीं मिलने के कारण फर्श पर बैठकर यात्रा करना पड़ा है। ज्ञात हो कि ये चारों खिलाड़ी रियो ओलंपिक से लौटने के बाद घर जा रही थीं।

इस मामले के सामने आते ही कई महिला संगठनों ने विरोध जताया। इन सगठनों ने खेल मंत्री विजय गोयल से मांग की है कि वे रेलवे अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कराएं। हालांकि रेलवे ने इस घटना से इनकार किया है।

क्या है मामला ?

-भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी नमिता टोपो, दीप ग्रेस इक्‍का, लिलिमा मिंज और सुनीता लाकड़ा को सफ़र के दौरान ट्रेन में फर्श पर ही बैठना पड़ा।

-इनकी टिकटें कंफर्म नहीं हो पाई थी।

-गौरतलब है कि ये चारों रेलवे की कर्मचारी भी हैं।

-इनके पास रेलवे द्वारा जारी किया गया यात्रा पास भी था, लेकिन टीटीई इनके लिए सीट की व्‍यवस्‍था नहीं कर सके।

घटना के बाद आई सख्त प्रतिक्रिया

-इस घटना के सामने आते ही कुछ महिला संगठनों ने आपत्ति जताई।

-इस बारे में एक महिला कार्यकर्ता ने कहा, 'यह शर्मनाक घटना है, रेलमंत्री को इस पर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए।'

-उन्होंने कहा रेलवे मंत्रालय ऐसा कदम उठाए जिससे आने वाले दिनों में अन्‍य खिलाडियों से ऐसा बर्ताव ना हो।

-एक अन्‍य कार्यकर्ता बृंदा अडिगे ने बताया कि 'बाबू लोग फर्स्‍ट क्‍लास में सफर करते हैं जबकि खिलाडि़यों को फर्श पर बैठाया जाता है। ऐसे अधिकारियों को ट्रेन से क्‍यों नहीं फेंका जाता?'

-उन्होंने आगे कहा, 'खिलाडि़यों के लिए फंड जारी किए गए होंगे, लेकिन अधिकारी मानते हैं कि खिलाड़ी उनके गुलाम हैं।'

रेलवे ने दी सफाई

-रेलवे ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा कि 'फर्श पर बैठने की बात गलत है।'

-रेलवे ने ट्वीट कर बताया, 'रांची एयरपोर्ट पहुंचने के बाद हॉकी खिलाड़ी बिना जानकारी दिए ट्रेन में सवार हो गईं।

-टीटीई ने उन्‍हें सीट देने के लिए 20 मिनट का समय लिया।

-हॉकी खिलाडि़यों को कोई शिकायत नहीं है।

-वे अपने परिवार से मिलने की जल्‍दबाजी में थीं, इसलिए सफर के कार्यक्रम में बदलाव किया।

-खिलाडि़यों के फर्श पर बैठने की बात झूठी है।





aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story