Top

रियो ओलंपिक: खेलों के इस महाकुंभ में क्या है खास, जानें इसके फैक्ट्स

By

Published on 4 Aug 2016 1:19 PM GMT

रियो ओलंपिक: खेलों के इस महाकुंभ में क्या है खास, जानें इसके फैक्ट्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रियो डी जेनेरियो : खेलों के सबसे बड़े महाकुंभ यानी ओलंपिक का इंतजार अब खत्म हुआ। तीन महीनों तक ब्राज़ील के शहरों से होते हुए ओलंपिक मशाल रियो डी जेनेरियो शहर पहुंच गई है। ब्राजील का रियो शहर ओलंपिक खेलों की मेजबानी के लिए तैयार है। दुनिया के कई प्लेयर्स जीत के लिए आपस में भिड़ते दिखेंगे। आप भी जानिए दुनिया के सबसे बड़े खेल रियो ओलंपिक के बारे में ...

पहली बार कोई दक्षिण अमेरिकी देश ओलंपिक गेम्स को करेगा होस्ट

-पहली बार किसी दक्षिण अमेरिकी देश में ओलंपिक का आयोजन हो रहा है।

-इसके पहले ओलंपिक गेम्स यूरोप, नॉर्थ अमेंरीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में ही आयोजित होता रहा है।

-रियो ओलंपिक (31वें ओलंपिक) गेम्स 17 दिन यानी 5 अगस्त से 21 अगस्त के बीच होंगे।

-रियो ओलंपिक का स्लोगन 'Um mundo novo' है जिसका मतलब 'A New World' है।

-रियो ओलंपिक का मोटो- लिव योर पैशन' यानी 'अपने जूनून को जियो रखा गया है।

यह भी पढ़ें ... रियो डी जेेनेरियो पहुंची ओलंपिक मशाल, कल से शुरू होगा खेलों का महाकुंभ

भारत और ब्राजील के बीच 8:30 घंटे का अंतर

-रियो ओलंपिक खेलों का उद्घाटन भारतीय समयानुसार शनिवार सुबह साढ़े 4 बजे से शुरू होगा।

-भारत और ब्राजील के बीच 8:30 घंटे का अंतर है।

-इंडियन स्टैंडर्ड टाइम (आईएसटी) ब्राजील से साढ़े 8 घंटे आगे है।

ये है रियो ओलंपिक का मेन स्टेडियम

-5 अगस्त को ओपनिंग सेरेमनी का आयोजन माराकाना स्टेडियम में होगा।

-रियो ओलंपिक का मुख्य वेन्यू माराकाना स्टेडियम है।

-जिसमें 78 हजार दर्शक एक साथ बैठ सकते हैं।

-इसी स्टेडियम में साल 2014 में फीफा वर्ल्ड कप का फाइनल मैच भी खेला गया था।

महान फुटबॉलर पेले प्रज्जवलित करेंगे मशाल

-ओपनिंग सेरेमनी प्रोग्राम के दौरान टीम परेड में सबसे पहले ग्रीस की टीम आएगी।

-भारत की ओर से इस ओपनिंग सेरेमनी प्रोग्राम में कुल 95 खिलाड़ी शामिल रहेंगे।

-मेजबान ब्राजील की टीम ओपनिंग सेरेमनी प्रोग्राम के दौरान टीम परेड में सबसे अंत में हिस्सा लेगी।

-ओलंपिक मशाल महान फुटबॉलर पेले प्रज्जवलित करेंगे।

-भारत की तरफ से अपना आखिरी ओलंपिक खेल रहे अभिनव बिंद्रा (निशानेबाज) उद्घाटन समारोह में भारत के ध्वजवाहक होंगे।

-माराकाना स्टेडियम में ही क्लोजिंग सेरेमनी भी होगी।

यह भी पढ़ें ... सानिया पहुंचीं रियो, कहा- उत्साह देता है ओलंपिक में हिस्सा लेना

सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम

-रियो ओलंपिक में सुरक्षा व्यवस्था के लिए करीब 85,000 सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं।

-ओलंपिक खेलों के लिए 16 किलोमीटर अंडरग्राउंड मेट्रो सिस्टम का विस्तार किया गया है।

यह भी पढ़ें ... रियो ओलंपिक में नहीं खेलेंगी अफ्रीकी गोल्फर ली एन पेस, जीका वाइरस बनीं वजह

सबसे बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट

-ओलंपिक में ये सबसे बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट है।

-रियो ओलंपिक के लिए 4 जोन बनाए गए हैं।

-बारा द टिजुका, कोपाकाबाना में ओलंपिक पार्क, मरकाना, नॉर्थ में ओलंपिक स्टेडियम।

-ओलंपिक गांव में 31 टॉवर बनाए गए हैं। इनमें 3,604 ब्लॉक्स हैं।

यह भी पढ़ें ... नरसिंह यादव को नाडा ने दी क्लीन चिट, PM मोदी को कहा- शुक्रिया

रिकॉर्ड 206 देशों के 11,000 से अधिक प्लेयर्स कर रहे हैं पार्टिसिपेट

-इस साल रियो ओलंपिक्स में प्लेयर्स 28 खेलों की कुल 300 स्पर्धाओं में भाग लेंगे।

-रियो ओलंपिक्स-2016 में इस बार सबसे ज्यादा रिकॉर्ड 206 देश पार्टिसिपेट कर रहे हैं।

-रियो ओलंपिक्स में 11,000 से अधिक खिलाड़ी हिस्सा लेंगे।

-रियो ओलंपिक्स के मुकाबले 33 आयोजन स्थलों पर होंगे।

-21 देशों ने ने 100 से अधिक खिलाडियों का दल रियो ओलंपिक में भेजा है।

-इसमें अमेरिका के सबसे ज्यादा 550, मेजबान ब्राजील के 465, जर्मनी के 420, ऑस्ट्रेलिया के 419 और चीन के 401 खिलाड़ी शामिल हैं।

रियो ओलंपिक में शामिल हुए दो नए खेल

-रियो ओलंपिक में इस बार दो नए खेलों को शामिल किया गया है।

-ये दोनों खेल हैं- गोल्फ़ और रग्बी।

-गोल्फ़ को ओलंपिक्स में तीसरी बार और साल 1904 के बाद पहली बार जगह मिली है।

-इस लिहाज से ओलंपिक्स में गोल्फ की वापसी 112 साल बाद हुई है।

-जबकि रग्बी साल 1924 पेरिस ओलंपिक के बाद से किसी भी ओलंपिक में नहीं खेला गया।

-इस ओलंपिक में 17 हजार खिलाड़ी और अधिकारी इस आयोजन में शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें ... मैरीकॉम नहीं खेल पाएंगी रियो ओलिंपिक, क्वालिफाइंग मुकाबले में हारीं

पहली बार किसी ओलंपिक में पार्टिसिपेट करेगी ROT टीम

-पहली बार ऐसा हो रहा है जिसमें ROT टीम (रिफ्यूजी ओलंपिक्स टीम ) भी हिस्सा ले रही है।

-इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी (IOC) के झंडे तले हिस्सा लेने वाले इस दल में 10 एथलीट्स शामिल हैं।

-बता दें, कि पिछले साल इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी के प्रेसिडेंट थॉमस बाख ने ऐलान किया था कि दुनिया भर के शरणार्थियों को ओलंपिक्स मूवमेंट का हिस्सा बनाया जाएगा।

-इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी को कई प्लेयर्स के नाम मिले।

-इसके बाद 43 ऐसे एथलीटों का सिलेक्शन किया गया जिनमें दुनिया के दिग्गज एथलीटों को टक्कर देने का माद्दा था।

-शॉर्टलिस्ट किए गए 43 एथलीट्स में से इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी के एक्सपर्ट के एक पैनल ने 10 का सिलेक्शन रियो ओलंपिक गेम्स के लिए किया।

यह भी पढ़ें ... UP की ये बेटी रियो में दिलाएगी दर्द से निजात, पहलवान मानेंगे इनकी बात

भारत की निगाहें अपने 118 एथलीट्स पर

-इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने 118 खिलाड़ियों को भेजकर एक अलग इतिहास रचा है।

-गौरतलब है कि लंदन ओलंपिक 2012 में इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने 83 एथलीटों का दल भेजा था।

-इस बार 118 एथलीटों पर भारत के 121 करोड़ लोगों की निगाहें होंगी।

-भारतीय प्लेयर्स 15 खेलों में अपनी चुनौती पेश करेंगे।

-बता दें कि, भारत ने 88 साल में सिर्फ 26 पदक जीते हैं।

-रियो ओलंपिक में भारत के सर्वाधिक 20 प्लेयर्स हरियाणा राज्य से हैं।

-रियो ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय दल में 05 ओलंपिक पदक विजेता हैं।

यह भी पढ़ें ... रन फॉर रियो: मोदी बोले- ओलंपिक में खिलाड़ी जीत लेंगे दुनिया का दिल

ये दो देश पहली बार ओलंपिक गेम्स में लेंगे हिस्सा

-दो देश पहली बार ओलंपिक गेम्स में हिस्सा ले रहे हैं।

-कोसोवो देश 24 साल पहले बना था और पहली बार ओलंपिक का हिस्सा बना है।

-जबकि साल 2011 में आजाद हुए साउथ सूडान के प्लेयर्स भी इस बार ओलंपिक्स में हिस्सा लेंगे।

यह भी पढ़ें ... मिलिए इनसे, रियो ओलंपिक में भाग लेने वाली ये होंगी पहली TRIPLETS

रियो ओलंपिक का मस्कट है कुछ खास

-रियो डि जेनेरियो में होने वाले इस समर ओलंपिक खेलों के मस्कट का नाम 'विनिसियस' है।

-इसकी घोषणा 14 दिसंबर 2014 को की गई थी।

-इस मस्कट की खास बात यह है कि इसमें ब्राजील के सभी जानवरों को रखने की कोशिश की गई है।

-खासतौर पर इसमें स्तनधानी जीवों के लक्षण देखने को मिलते हैं।

यह भी पढ़ें ... टेनिस स्टार रोजर फेडरर नहीं खेल सकेंगे रियो ओलंपिक, जानें क्या है वजह

इस महान म्यूजिशनके नाम पर रखा गया मस्कट का नाम

-इस मस्कट का नाम ब्राजील के पूर्व म्यूजिशन विनियियस डी मोरस के नाम पर रखा गया है।

-रियो ओलंपिक के इस मस्कट का निर्माण बर्डो ने किया है।

-बर्डो साउथ पाउलो स्थित एक डिजाइन और एनिमेशन कंपनी है।

-जो अब तक काफी सारे इंटरनेशनल अवार्ड जीत चुकी है।

Next Story