Top

एक और पाकिस्तानी क्रिकेटर पर फिक्सिंग मामले में 5 साल का प्रतिबंध

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 20 Sep 2017 11:30 AM GMT

एक और पाकिस्तानी क्रिकेटर पर फिक्सिंग मामले में 5 साल का प्रतिबंध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लाहौर : पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने क्रिकेटर खालिद लतीफ पर पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में स्पॉट-फिक्सिंग का दोषी पाए जाने पर पांच साल का प्रतिबंध लगा दिया है। इस प्रतिबंध के कारण खालिद क्रिकेट के किसी भी प्रारूप में नहीं खेल पाएंगे।

ये भी देखें:पहलू खान के परिवार पर जो बीत रही, उसे देख कोई भी रो देगा

खालिद पर पीसीबी की भ्रष्टाचार रोधी संहिता के तहत छह प्रमुख आरोप लगाया गया था और बुधवार को उन्हें सभी छह आरोपों में दोषी पाया गया। इस कारण, उन पर पांच साल के प्रतिबंध के साथ-साथ एक लाख पाकिस्तानी रुपये (लगभग 9,489 डॉलर) का जुमार्ना भी लगाया गया है।

ये भी देखें:‘अच्छे दिन’: मोदी कैबिनेट की मंजूरी, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा बोनस

इस मामले की सुनवाई के दौरान खालिद के वकील बदर आलम ने कई बार आपत्ति जाहिर की, लेकिन उनकी अपील को खारिज किया गया।

ये भी देखें:सरकार पर वार! Fuel कीमतों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार से जोड़ा जाए

आलम ने अब इस फैसले का विरोध करते हुए खालिद के मामले पर निर्णय लेने के लिए गठित ट्रिब्यूनल के गठन के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। खालिद से पहले बल्लेबाज शर्जील खान पर भी स्पॉट-फिक्सिंग मामले के तहत पांच साल का प्रतिबंध लगाया गया था।

ये भी देखें:निकाह के नाम पर लड़कियों का सौदा करने वाले अरब के 8 शेख गिरफ्तार

खालिद पर लगे पांच साल के प्रतिबंध के तहत वह 2022 तक क्रिकेट जगत में वापसी नहीं कर पाएंगे।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story