Top

...तो क्या आखिरी वर्ल्ड कप खेल रहे हैं महेंद्र सिंह धोनी!

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 3 July 2019 10:08 AM GMT

...तो क्या आखिरी वर्ल्ड कप खेल रहे हैं महेंद्र सिंह धोनी!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बर्मिंघम: वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर चुकी है। टूर्नामेंट अपने आखिरी पड़ाव की ओर काफी तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में कयास लगाये जा रहे हैं भारतीय टीम का मौजूदा वर्ल्ड कप में आखिरी मैच महेंद्र सिंह धोनी के लिये भी आखिरी मुकाबला हो सकता है।

यह भी पढ़ें: वर्ल्ड कप टीम से में जगह न मिलने पर रायुडू ने क्रिकेट से संन्यास लिया

अगर भारतीय टीम फाइनल्स के लिये क्वालीफाई करती है और लार्ड्स पर 14 जुलाई को विश्व कप में जीत हासिल करती है तो भारतीय क्रिकेट के महान क्रिकेटरों में से एक के लिये यह आदर्श विदाई होगी।

यह भी पढ़ें: CWC19: 87 वर्षीय क्रिकेट फैन चारुलता पटेल से मिलकर, क्या बोले विराट?

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘महेंद्र सिंह धोनी के बारे में आप कुछ नहीं कह सकते। लेकिन ऐसी संभावना नहीं है कि वह इस वर्ल्ड कप के बाद भारत के लिए खेलना जारी रखेंगे। उन्होंने तीनों प्रारूपों से कप्तानी छोड़ने का फैसला भी अचानक ही लिया था तो इस बारे में भविष्यवाणी करना बहुत मुश्किल है।’’

यह भी पढ़ें: सनी देओल ने नियुक्त किया पर्सनल असिस्टेंट, हुआ बवाल, ट्वीट कर दिया ये जवाब

मौजूदा चयन समिति के अक्टूबर में होने वाली आम सालाना बैठक तक रहने की संभावना है और वह निश्चित रूप से अगले साल आस्ट्रेलिया में होने वाले आईसीसी विश्व टी20 को देखते हुए बदलाव की प्रक्रिया शुरू कर देगी।

हालांकि भारत के यहां विश्व कप सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई करने के बाद न तो टीम प्रबंधन और न ही बीसीसीआई इस मुद्दे पर बात करना चाहता है।

जहां तक रन जुटाने की बात है तो धोनी ने विश्व कप में सात मैचों में 93 से ज्यादा के स्ट्राइक रेट से 223 रन बनाए हैं, लेकिन इससे उनकी स्ट्राइक रोटेट करने की अक्षमता नहीं दिखायी देती। हालांकि कुछ ने उनकी बल्लेबाजी में इच्छा की कमी और कुछेक ने एक फिनिशर के रूप में उनकी कम होती काबिलियत की ओर इशारा किया।

सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली ने भी उनके बल्लेबाजी करने के रवैये की आलोचना की। इससे टीम प्रबंधन अच्छी तरह से जानता है कि वे अपने ‘प्रिय कप्तान’ को विश्व कप से आगे नहीं खिला सकते हैं। उनका मैदान पर योगदान अपार है जो हर प्रेस कांफ्रेंस में हर खिलाड़ी के उनकी तारीफ करने से साफ दिखता है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story