Top

कम नहीं हो रही जिम्बाब्वे क्रिकेट की मुश्किलें, अलग हुए मखाया नतिनि

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Jan 2018 11:47 AM GMT

कम नहीं हो रही जिम्बाब्वे क्रिकेट की मुश्किलें, अलग हुए मखाया नतिनि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरारे : दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज मखाया नतिनि जिम्बाब्वे क्रिकेट (जेडसी) से अलग हो गए हैं। दक्षिण अफ्रीका का यह पूर्व खिलाड़ी जिम्बाब्वे की टीम के गेंदबाजी कोच थे। वह जनवरी-2016 में दो साल के लिए टीम के गेंदबाजी कोच बने थे।

ये भी देखें :दक्षिण अफ्रीका में कुछ इस तरह विरुष्का ने मनाया नए साल का जश्न, वीडियो वायरल

बोर्ड ने एक बयान में कहा है, "जिम्बाब्वे क्रिकेट बड़े दुख के साथ बताना चाहता है कि राष्ट्रीय टीम के गेंदबाजी कोच मखाया नतिनि अपनी टीम के साथ नहीं रहेंगे। उन्होंने अपना इस्तीफा जेडसी को सौंप दिया है।"

ये भी देखें : Steyn may not bowl again in Test series against India

बयान के मुताबिक, "मखाया टीम में अपना विशाल अनुभव और जानकारी लेकर आए थे। बोर्ड, जिम्बाब्वे के खिलाड़ी और उनका कोचिंग स्टाफ सौभाग्यशाली है कि उन्हें नतिनि के साथ काम करने का मौका मिला।"

नतिनि ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को 2011 में अलविदा कह दिया था। जिम्बाब्वे के साथ उन्होंने अपने कोचिंग करियर का पदार्पण किया था। डेव व्हाटमोर को टीम के मुख्य कोच पद से हटाने के बाद नतिनि को टीम का अंतिरम कोच बनाया गया था। अक्टूबर-2016 में हीथ स्ट्रीक के टीम के मुख्य कोच बनने के बाद उन्हें अंतिरम मुख्य पद से मुक्त कर दिया गया था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story