×

Moscow Olympic 1980: वासुदेवन भास्करन की कप्तानी में अंतिम बार गोल्ड मेडल जीता था भारत, देखें ओलंपिक में हॉकी कप्तानों की लिस्ट

Moscow Olympic 1980: वासुदेवन भास्करन भारतीय टीम हॉकी टीम के आखिरी कप्तान थे जब टीम ने 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था।

Network

NetworkNewstrack NetworkDharmendra SinghPublished By Dharmendra Singh

Published on 1 Aug 2021 4:25 PM GMT

Moscow Olympic 1980
X

जीत के बाद टीम के साथ वासुदेवन भास्करन (फोटो: सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Tokyo Olympic 2020: भारत ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में हॉकी के क्वार्टरफाइनल मुकाबले में ब्रिटेन को हराकर इतिहास रच दिया है। ओलंपिक खेलों के सेमीफाइनल में भारतीय पुरुष हॉकी टीम 41 साल बाद पहुंची है। मनप्रीत सिंह की कप्तानी वाली भारतीय हॉकी टीम की जीत के बाद देश में खुशी लहर है। इस मैच में भारत की तरफ से गुरजंत सिंह, हार्दिक सिंह और दिलप्रीत सिंह ने 1-1 गोल किया।

ऑस्ट्रेलिया से मिली हार को छोड़ दें तो भारतीय टीम का टोक्यो में शानदार प्रदर्शन रहा है। भारत ने पांच में से चार मैचों में जीत हासिल की। भारत ने ऑस्ट्रेलिया से हारने के बाद लगातार तीन मैच जीते हैं। भारत ने आखिरी मेडल 1980 मॉस्को में हुए ओलंपिक जीता था। उस समय भारतीय हाॅकी टीम के कप्तान वासुदेवन भास्करन थे।
इससे पहले भारतीय टीम 1972 में म्यूनिख ओलंपिक में सेमीफाइनल में जगह बनाई थी।

वासुदेवन भास्करन भारतीय टीम हॉकी टीम के आखिरी कप्तान थे जब टीम ने 1980 ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। लेकिन उसके बाद से भारतीय टीम ओलिंपिक में चौथा स्थान भी हासिल नहीं कर पाई।
भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 1980 के मॉस्को ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था, लेकिन उस समय भारती टीम राउंड रॉबिन के आधार पर छह टीमों के पूल में दूसरे स्थान पर रहते हुए फाइनल में पहुंची थी।


उसके बाद से भारतीय हॉकी टीम का प्रदर्शन गिरता गया। लेकिन बीते पांच साल में भारतीय हॉकी टीम के प्रदर्शन में बेहतरीन सुधार हुआ है जिसकी वजह से विश्व रैंकिंग में तीसरे स्थान पर है। ऑस्ट्रेलिया के ग्राहम रीड ने दो साल कोच का पद का संभाला था जिसके बाद भारतीय टीम के खिलाड़ियों में जबरदस्त सुधार हुआ है।
1928 से लेकर अबतक ओलंपिक में 20 खिलाड़ी भारतीय टीम के कप्तान रहे हैं। आईए एक नजर डालते हैं उन कप्तानों पर

कैप्टन का नाम

साल

ओलंपिक में रैंक और पदक

जयपाल सिंह मुंडा एम्स्टर्डम

ओलंपिक 1928

स्वर्ण पदक

लाल शाह बोखारी

लॉस एंजिल्स ओलंपिक 1932

स्वर्ण पदक

ध्यानचंद

बर्लिन ओलंपिक 1936

स्वर्ण पदक

.किशन लाल

लंदन ओलंपिक 1948

स्वर्ण पदक

केडी सिंह

हेलसिंकी ओलंपिक 1952

स्वर्ण पदक

बलबीर सिंह सीनियर

मेलबर्न ओलंपिक 1956

स्वर्ण पदक

लेस्ली क्लॉडियस

रोम ओलंपिक 1960

रजत पदक

चरनजीत सिंह

टोक्यो ओलंपिक 1964

स्वर्ण पदक

गुरबक्स सिंह

प्रीतिपाल सिंह

मेक्सिको सिटी ओलंपिक 1968

कांस्य पदक

हरमीक सिंह

म्यूनिख ओलंपिक 1972

कांस्य पदक

अजीत पाल सिंह

मॉन्ट्रियल ओलंपिक 1976

7वां स्थान

वासुदेवन भास्करन

मास्को ओलंपिक 1980

स्वर्ण पदक

ज़फ़र इक़बाल

लॉस एंजिल्स ओलंपिक 1984

5वां स्थान

सोमय मन्यपांडे

सियोल ओलंपिक 1988

6वां स्थान

पारगट सिंह

बार्सिलोना ओलंपिक 1992

7वां स्थान

परगट सिंह

अटलांटा ओलंपिक 1996

8वां स्थान

रमनदीप सिंह

सिडनी ओलंपिक 2000

7वां स्थान

दिलिप तिर्की

एथेंस ओलंपिक 2004

7वां स्थान

भारत छेत्री

लंदन ओलंपिक 2012

12वां स्थान


पीआर राजेश

रियो ओलंपिक 2016

8वां स्थान



Dharmendra Singh

Dharmendra Singh

Next Story