Top

2024 और 2028 ओलम्पिक मेजबानी एक साथ दे सकता है IOC

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 20 May 2017 9:23 AM GMT

2024 और 2028 ओलम्पिक मेजबानी एक साथ दे सकता है IOC
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लंदन : अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) ने कहा है कि उसका कार्यकारी बोर्ड वर्ष 2024 और 2028 ओलम्पिक खेलों की मेजबानी एक साथ देने पर विचार कर रहा है। आईओसी ने एक बयान में कहा है कि उसका कार्यकारी बोर्ड 9 जून को ल्यूसाने में बैठक करेगा।

ये भी देखें: IPL-10: कोलकाता नाइट राइडर्स को हरा कर मुंबई इंडियंस फाइनल में पहुंची

इस बैठक में वह वर्किंग ग्रुप की दो रिपोर्ट पर ध्यान देगा जिसमें वह 2024 और 2028 ओलम्पिक खेलों की मेजबानी प्रदान करने की प्रक्रिया पर विचार करेगा। इसके अलावा वह 2026 में होने वाले शीतकालीन ओलम्पिक खेलों की मेजबान प्रक्रिया में बदलाव को लेकर भी चर्चा करेगा।

ग्रुप में चार आईओसी उपाध्यक्ष होते हैं। इस वर्किंग ग्रुप को मेजबानी प्रक्रिया को और ज्यादा सक्रिय बनाने के लिए सुझाव देने का जिम्मा सौंपा गया था।

2024 ओलम्पिक और पैरालम्पिक खेलों की मेजबानी के लिए लास एंजेल्स और पेरिस दो शहर रेस में बचे हुए हैं। रोम, हैमबर्ग, बोस्टन, बुडापोस्ट ने मेजबानी की रेस से अपने नाम वापस ले लिए हैं।

आईओसी के अध्यक्ष थॉमस बाख दो ओलम्पिक की मेजबानी एक साथ सौंपने के समर्थन में हैं। लास एंजेल्स और पेरिस ने कहा है कि वह 2024 ओलम्पिक खेलों की मेजबानी चाहते हैं क्योंकि वह अगले चार साल तक का इंतजार नहीं करना चाहते।

अगर दो ओलम्पिक खेलों की मेजबानी एक साथ देने का प्रस्ताव मंजूर हो जाता है तो आईओसी लास एंजेल्स और पेरिस को दो ओलम्पिक खेलों की मेजबानी सौंप सकता है लेकिन यह देखने वाली बात होगी की 2024 ओलम्पिक खेलों की मेजबानी किसे मिलेगी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story