×

आज ही के दिन 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीता था भारत, धोनी बने थे पहले कप्तान जिन्होंने जीती ICC की तीनों ट्रॉफी

ICC Champion Trophy: आज से नौ साल पहले आज के दिन भारत ने आईसीसी की टी20 विश्व कप, आइसीसी मैन विश्व कप के बाद आईसीसी की तीसरी सबसे बड़ी ट्राफी यानी चैम्पियन ट्राफी को एम एस की कप्तानी में जीता था।

Prashant Dixit
Updated on: 23 Jun 2022 7:47 AM GMT
ICC Champion Trophy Final 2013
X

ICC Champion Trophy Final 2013 (Image credit social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

ICC Champion Trophy: आज से नौ साल पहले आज के दिन भारत ने आईसीसी की टी20 विश्व कप, आइसीसी मैन विश्व कप के बाद आईसीसी की तीसरी सबसे बड़ी ट्राफी यानी चैम्पियन ट्राफी जीती थीं। यह तीनों ही ट्राफी भारत ने 2007 में टी 20 विश्व कप, 2011 विश्व कप और 2013 में चैम्पियन ट्रॉफी की एमएस धोनी की कप्तानी में की जीत रिकॉर्ड बनाया था। रिकॉर्ड धोनी के नाम अब तक कायम है। यह फाइनल मैच भारत ने इंग्लैड की टीम को पांच रन से हराकर के चैम्पियन ट्राफी पर कब्जा किया था।

चैम्पियंस ट्रॉफी फाइनल में भारत के रन

2013 आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच बर्मिंघम में 23 जून को खेला गया था। बारिश के कारण इस मैच को 20 - 20 ओवर का कर दिया गया था, जिसमें धोनी की कप्तानी में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट पर 129 रन बनाए थे। टीम के सिर्फ मात्र तीन बल्लेबाज स्कोर दहाई के अंकों में पहुंच सका था। जिसमें विराट कोहली ने 43, रवींद्र जडेजा ने 33 और शिखर धवन ने 31 रन बनाए थे। जबकि खुद कप्तान एमएस धोनी खाता तक नहीं खोल सके थे। इंग्लैंड के सामने जीत के लिए मात्र 130 रन का मामूली सा लक्ष्य था।

इंग्लैंड की पारी हिचकोले खा बढ़ी आगे

लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की शुरुआत खराब बेहद रही थी। कप्तान एलिस्टेयर कुक महज 2 रन बनाकर आउट हुए, इयान बेल 13 और जो रूट 7 रन ही बना सके थें। भारतीय टीम के शातिर स्पिनर अश्विन और जडेजा की फिरकी ने इंग्लैंड के सभी बल्लेबाजों को पूरी तरह दबाव में ला रखा था, लेकिन इसके बाद ऑयन मॉर्गन और रवि बोपारा ने अच्छी बल्लेबाजी करते हुए छठे विकेट के लिए 64 रन जोड़ डाले, 17 ओवर में इंग्लैंड के 102 रन हो गए और उसे अंतिम 18 गेंदों में 28 रनों की दरकार थी।

धोनी की कप्तानी में बने चैम्पियन

कैप्टन कूल ने अब तक तीन ओवर में 27 रन खर्च कर चुके इशांत शर्मा को गेंद थमाई जो हैरान करने वाला फैसला था, दिल्ली के तेज गेंदबाज ने इस ओवर में क्रीज पर जीत के लिए सेट मॉर्गन और बोपारा को लगातार गेंद पर आउट कर दिया। इंग्लैंड को अंतमि ओवर में जीत के लिए 15 रन की दरकार थी। कप्तान धोनी ने एक बार फिर चौंकाने वाला फैसला लिया, और गेंद ऑफ स्पिनर आर अश्विन को थमा दी। अश्विन के इस ओवर में सिर्फ एक चौका लगा, कुल नौ रन बने, भारत ने पांच रन से फाइनल मैच जीतकर चैम्पियंस ट्रॉफी पर कब्जा जमा कर लिया।

धोनी के नाम अनोखा आइसीसी रिकॉर्ड

ऐसा कहा जाता है, कि इंग्लैंड आसानी से ये मैच जीत लेता, पर एमएस धोनी की सूझबूझ भरी कप्तानी और रविंद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन की घूमती हुई गेंदों के सामने इंग्लैंड के बल्लेबाज फेल हो गए और भारत ने पांच रन से मैच जीत लिया। इस मैच में रवींद्र जडेजा को मैन ऑफ द मैच का सम्मान दिया गया। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम दुनिया के महान कप्तानों में गिना जाता है। इस सम्मान के पीछे कई उपलब्धियां हैं, कई कहानियां हैं, जो 23 जून 2013 को अपने चरम पर पहुंचा था। माही ने इसी तारीख पर भारत को आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी का विजेता बनाया था। इस जीत के साथ वह आईसीसी सीमित ओवर क्रिकेट के सारे टूर्नामेंट जीतने वाले दुनिया के पहले और इकलौते कप्तान बन गए थे। जो रिकॉर्ड अब तक उनके नाम ही कायम है।

Prashant Dixit

Prashant Dixit

Next Story