Top

क्या इडेन गार्डन में सुरक्षित है भारत-पाक मैच ?हंगामो से रहा है संबंध

Admin

AdminBy Admin

Published on 10 March 2016 12:44 PM GMT

क्या इडेन गार्डन में सुरक्षित है भारत-पाक मैच ?हंगामो से रहा है संबंध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता: टी-20 विश्वकप में भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाला मैच अब धर्मशाला के स्थान पर कोलकाता के इडेन गार्डेन मैदान पर होगा। लेकिन क्या इससे इडेन गार्डेन में इस मैच पर कोई बाहरी प्रभाव नहीं पड़ेगा। इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। इतिहास के के पन्नों में ऐसी कई घटनाएं दर्ज हैं जब इडेन गार्डेन मैदान पर दर्शकों का बर्ताव टीमों के साथ अच्छा नहीं रहा है। कई बार तो दर्शकों के इस बर्ताव से मैच तक रोकना पड़ा है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही घटनाओं से अवगत कराते हैं।

वर्ष 1946, भारत बनाम ऑस्ट्रेलियन सर्विसेज़ इलेवन, अनौपचारिक टेस्ट

-1946 में खेले गए इस अनौपचारिक टेस्ट में मुश्ताक अली को शामिल नहीं किया गया था।

-इस बात को लेकर भीड़ में काफी रोष देखने को मिला था।

-भीड़ ने साफ़ कर दिया था कि अगर टीम में मैच नहीं तो मैच नहीं।

-दर्शकों के रोष को देखते हुए अंत में चयनकर्ताओं को मुश्ताक अली को टीम में शामिल करना पड़ा था।

वर्ष 1966-67, भारत बनाम वेस्टइंडीज, टेस्ट मैच

-भारत और वेस्टइंडीज के बीच टेस्ट मैच खेला जाना था।

-ग्राउंड स्टाफ ने इस मैच के ब्लैक में डुब्लिकेट टिकट बेचे थे।

-इस मैच के कुल 80,000 टिकट बिके थे।

-पहले दिन तो मैच शांति से हुआ।

-लेकिन दूसरे दिन जब लोगों को बैठे की जगह नहीं मिली तो उन्होंने उपद्रव करना शुरू कर दिया।

–पुलिसकर्मियों को लोगों पर लाठीचार्ज करनी पड़ी।

-लाठीचार्ज होने से लोगों के ग़ुस्से का बांध टूट गया।

-दर्शकों और पुलिस के बीच हाथपाई शुरू हो गई और हंगामा शुरू हो गया।

-दर्शकों ने उग्र रूप अपनाते हुए सभी बांस व खम्बे उखाड़ दिए और छत पर आग लगा दी।

-दर्शकों के इस व्यवहार से दूसरे दिन का खेल रद्द करना पड़ा था।

1966 में भारत-वेस्टइंडीज मैच के दौरान भड़के दंगे की फोटो 1966 में भारत-वेस्टइंडीज मैच के दौरान भड़के दंगे की फोटो

1969-70 , भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, टेस्ट मैच

-भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए इस मैच में भी दर्शकों का उपद्रव देखने को मिला था।

-इसमें पुलिसिया कार्रवाई के बाद मैदान पर हिंसक वारदातें हुई थी।

वर्ष 1996, आईसीसी विश्वकप सेमीफाइनल, भारत-श्रीलंका मैच

-आईसीसी विश्वकप-1996 का सेमीफाइनल मुकाबला इडेन गार्डेन मैदान पर खेला जाना था।

-यह मैच में भारत और श्रीलंका आमने-सामने थे।

-मैच में सचिन तेंदुलकर के आउट होते ही भारत के विकेट लगातार गिरने लगे और टीम हार की कगार पर आकर खड़ी हो गई।

-भारत की हार तय देखते ही भीड़ ने आपा खो दिया और मैदान पर बोतल इत्यादि फेंकने लगी।

-भीड़ की उग्रता देखते हुए मैच को बीच में ही रोकना पड़ा।

-इस मैच में श्रीलंका को विजयी घोषित किया गया था।

वर्ष 1996, आईसीसी विश्वकप सेमीफाइनल, भारत-श्रीलंका मैच के दौरान भड़का दंगा वर्ष 1996, आईसीसी विश्वकप सेमीफाइनल, भारत-श्रीलंका मैच के दौरान भड़का दंगा

वर्ष 1999, भारत-पाकिस्तान मैच

-भारत-पाकिस्तान के बीच अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच खेला जा रहा था।

-मैच में दो रन लेते समय सचिन तेंदुलकर के सामने शोएब अख्तर आ गए थे।

-इस वजह से वे रन आउट हो गए थे।

-इस बात को लेकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा।

-इस एक रन से सचिन अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट करियर में 5000 रन पूरे करने से चूक गए थे।

-हालांकि सचिन ने लोगों से शांत रहने की गुजारिश भी की।

-बाद में पुलिस ने मैदान खाली करवाना पड़ा और आगे का मैच खेला गया।

sachin लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते सचिन तेंदुलकर

वर्ष 2005, सौरव गांगुली और ग्रेग चैपल विवाद

-साल 2005 में तत्कालीन भारतीय कप्तान सौरव गांगुली और तत्कालीन भारतीय टीम के कोच ग्रेग चैपल के बीच हुए विवाद का असर भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए चौथे एकदिवसीय मैच पर पड़ा था।

-इस विवाद की वजह से सौरव गांगुली की कप्तानी चीन ली गई थी और उन्हें टीम के बाहर कर दिया गया था।

-इसका गुस्सा निकालते हुए लोगों ने मेहमान टीम का सपोर्ट किया था।

-मैच के दौरान ही ग्रेग चैपल ने दर्शकों की तरफ आपत्तिजनक इशारा भी किया।

-यह मैच दक्षिण अफ्रीका ने 10 विकेट्स से जीत लिया था।

ग्रेग चैपल के खिलाफ सौरव गांगुली के सपोर्ट में पोस्टर दिखाते फैंस ग्रेग चैपल के खिलाफ सौरव गांगुली के सपोर्ट में पोस्टर दिखाते फैंस

Admin

Admin

Next Story