Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

सुनील छेत्री ने मास्टर-ब्लास्टर को भी कर दिया इमोशनल, यहां देखें वीडियो

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 4 Jun 2018 9:52 AM GMT

सुनील छेत्री ने मास्टर-ब्लास्टर को भी कर दिया इमोशनल, यहां देखें वीडियो
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: ‘ऐथलीट्स जिस देश को गौरवान्वित करते हैं उसका नाम भारत है’, मास्टर-ब्लास्टर द्वारा लिखी गई इस लाइन के बारे में जानकर आप ये तो समझ गए होंगे कि इस बार चर्चा फुटबॉल को लेकर होने वाली है। भारत उन देशों में से हैं, जहां क्रिकेट को लेकर फैंस में एक अलग ही दीवानगी और जुनून देखने को मिलता है। ऐसे में कई स्पोर्ट्स ऐसे हैं, जिनको उस तरह की तवज्जो नहीं मिल पाती जैसी मिली चाहिए।

फीफा विश्व कप : डेनिस रूस की 23 सदस्यीय टीम में शामिल

फुटबॉल एक ऐसा ही स्पोर्ट्स है, जोकि इंडिया में पॉपुलर तो है लेकिन इंडियन फैंस भारतीय फुटबॉल को ज्यादा सपोर्ट नहीं करते और उनका मैच देखने स्टेडियम नहीं जाते। इन शॉर्ट इंडिया में अधिकतर यूरोपियन क्लब्स के फैंस हैं। इस तरह इंडियन फुटबॉल टीम को या इंडियन फुटबॉल प्लेयर्स को वो प्यार या सपोर्ट नहीं मिल पाता, जोकि वो अपने देश से उम्मीद कर रहे होते हैं।

सुनील छेत्री ने ट्वीट किया इमोशनल वीडियो

इसलिए फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट की। इस वीडियो में छेत्री उन देशवासियों को संबोधित कर रहे हैं जिनका मानना है कि इंडियन फुटबॉल टीम में कोई खास दम नहीं है। वीडियो में छेत्री काफी इमोशनल दिख रहे हैं और लियोनेल मेसी, नेमार और क्रिस्टियानो रोनाल्डो के फैंस से भावनात्मक अपील करते दिख रहे हैं।



वीडियो में छेत्री ने फैंस से अपील करते हुए कहा कि वो इंडियन फुटबॉल प्लेयर्स को गालियां दें, उनकी आलोचना करें लेकिन अपनी फुटबॉल टीम को खेलते देखने स्टेडियम में जरुर जाएं। छेत्री इस बात से काफी दुखी हैं कि भारतीय फुटबॉल टीम को फैंस से वो प्यार और सपोर्ट नहीं मिल रहा, जो मिलना चाहिए।

दरअसल, अब फुटबॉल वर्ल्ड कप दो हफ़्तों बाद शुरू होने वाला है। ऐसे में फुटबॉल प्रेमियों से प्रसारक दूसरे देशों की टीमों को सपोर्ट करने की अपील कर रहे हैं। वहीं, छेत्री को इमोशनल होता देख क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर और भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली भी उनके सपोर्ट में आगे हैं।



जहां तेंदुलकर ने अपने ट्विटर हैंडल से वीडियो पोस्ट करते हुए फैंस से अपील की है कि वो खिलाड़ियों के साथ खड़े हों और उनका सपॉर्ट करें तो वहीं कोहली ने भी वीडियो पोस्ट करते हुए इंडिया से गुजारिश की है कि वो फुटबॉल मैच देखने के लिए स्टेडियम जाएं। वहीं, तेंदुलकर और कोहली से इस लेवल का सपोर्ट मिलने के बाद छेत्री काफी हैरान हैं क्योंकि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि उनके इस भावनात्मक वीडियो को इतना सपोर्ट मिलेगा।



कौन हैं सुनील छेत्री और कितने रिकॉर्ड दर्ज हैं इनके नाम

सिकंदराबाद, आंध्र प्रदेश में 3 अगस्त 1984 को नेपाली दंपति को जन्में सुनील छेत्री इंडियन फुटबॉल टीम के कप्तान हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि छेत्री की मां और उनकी बहनों ने नेपाल की फुटबॉल टीम की ओर से खेला है। इसलिए छेत्री की भी बचपन से फुटबॉल में रूचि रही है। छेत्री ने भारत के लिए जूनियर ओर सीनियर दोनों टीमों की तरफ से खेला है।

Image result for सुनील छेत्री

साल 2007 में कम्बोडिया के विरुद्ध 2 गोलों ने छेत्री को एक रात में ही हीरो बना दिया था। दुनियाभर ने उनकी प्रतिभा को देखा और उसकी सराहना की। छेत्री वहीं प्लेयर हैं, जिन्होंने एएफसी चॅलेंज कप 2008 में ताजिकिस्तान के विरुद्ध 3 गोल मारकर भारत को 27 साल के बाद एशिया कप के लिए प्रवेश दिलाया था।

इतनी साफलता पाने के बाद उन्हें दूसरे देशों से फुटबॉल खेलने के लिए ऑफर आने लगे। सुनील ने साल 2010 में कंसास सिटी के लिए मेजर लीग सॉकर यूएसए से भी खेला है। वह तीसरे भारतीय हैं, जो भारत के बाहर खेलने के लिए गए हों।

आम खिलाड़ी नहीं सुनील छेत्री

साल 2012 में उन्होंने स्पोर्टिंग क्लब डी पुर्तगाल के रिज़र्व्स टीम की तरफ से खेला। स्पोर्टिंग क्लब डी पुर्तगाल के साथ अनुबंध खत्म होते ही उन्होंने बेंगलुरु फुटबॉल क्लब के साथ अनुबंध कर लिया। अभी वह इस क्लब के कप्तान हैं और छेत्री अभी आई-लीग के नंबर एक के खिलाड़ी हैं।

Image result for सुनील छेत्री

उन्होंने अभी तक इंडिया टीम की तरफ़ से 72 मैच में 41 गोल दागे हैं। यह अभी तक का सर्वाधिक स्कोर है, जो किसी भारतीय ने किया हो। छेत्री ने भारत को 2007, 2009, 2012 में नेहरू कप जिताया है और 2008 में एशिया कप के लिए क्वालीफाई भी करवाया था। यही नहीं, सुनील अर्जुन पुरस्कार भी जीत चुके हैं। साल 2007 में छेत्री एनडीटीवी इंडिया द्वारा प्लेयर ऑफ द इयर का अवॉर्ड भी जीत चुके हैं।

इसके अलावा छेत्री तीन बार वो ऐइफा प्लेयर ऑफ द ईयर का अवॉर्ड भी जीत चुके हैं। ये सभी पुरस्कार बताते हैं कि ऐसा कारनामा कोई आम खिलाड़ी नहीं बल्कि एक प्रतिभावान खिलाड़ी ही कर सकता है। निश्चित रूप से सुनील छेत्री भारत का नाम फुटबॉल जगत में आगे ले जा रहे हैं।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story