×

T20 World Cup: न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया नहीं बदल सकी इतिहास, इन वजहों से झेलनी पड़ी शर्मनाक हार

T20 World Cup: दुबई में खेले गए T20 विश्व कप के दूसरे मैच में भारतीय टीम को फिर से हार का सामना करना पड़ा। आइए जानते है किस वजह से शर्मनाक हार झेलनी पड़ी?

Anshuman Tiwari

Written By Anshuman TiwariPublished By Chitra Singh

Published on 1 Nov 2021 5:26 AM GMT

team india
X
भारतीय टीम (फोटो- सोशल मीडिया)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

T20 World Cup: T20 विश्व कप (T20 World Cup) के दूसरे मैच में भी टीम इंडिया (Team India) पूरी तरह फ्लॉप साबित हुई। भारत का टॉप ऑर्डर और मध्यक्रम के बल्लेबाज न्यूजीलैंड के गेंदबाजों के सामने पूरी तरह नाकाम साबित हुए। रोहित शर्मा (Rohit Sharma), केएल राहुल (KL Rahul), कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli), ऋषभ पंत (Rishabh Pant) और हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) न्यूजीलैंड (New Zealand) के गेंदबाजों के आगे खुलकर बल्लेबाजी नहीं कर सका। सभी बल्लेबाज न्यूजीलैंड के गेंदबाजों के आगे बेबस नजर आए। बाद में रही सही कसर भारत की कमजोर गेंदबाजी ने पूरी कर दी।

हालत यह थी कि मैच की शुरुआत से ही न्यूजीलैंड की टीम भारत (india vs new zealand t20 highlights) पर हावी हो गई और 20 ओवर के मुकाबले में कोई ऐसा लम्हा नहीं आया जब भारतीय टीम न्यूजीलैंड पर हावी होती दिखी हो। यही कारण था कि न्यूजीलैंड की टीम ने 14.3 ओवर में ही 111 रनों का टारगेट हासिल करके भारतीय टीम को 8 विकेट से करारी हार झेलने पर मजबूर कर दिया। आईसीसी विश्व के किसी भी इवेंट में भारतीय टीम में 2003 के बाद न्यूजीलैंड को नहीं हरा सकी है और इस मैच में भी यह सिलसिला जारी रहा। T20 वर्ल्ड कप में भारत तीसरी बार भी न्यूजीलैंड को नहीं हरा सका। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि वे कौन सी वजहें हैं जिनके कारण भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के सामने इतनी बुरी हार झेलनी पड़ी।

विराट का किस्मत ने नहीं दिया साथ

मौजूदा विश्वकप में टॉस की भूमिका को काफी अहम माना जा रहा है। पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए पहले मैच की तरह दूसरे मैच में भी टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली टॉस नहीं जीत सके। यूएई में ओस के कारण बाद में गेंदबाजी करने वाली टीमों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। यही कारण है कि टॉस जीतने के बाद अधिकांश मैचों में कप्तान पहले क्षेत्ररक्षण का फैसला कर रहे हैं।

न्यूजीलैंड बनाम भारत (फोटो- सोशल मीडिया)

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन (Kane Williamson) ने रविवार को दुबई में टॉस जीतने के बाद मैदान के पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए पहले क्षेत्ररक्षण का ही फैसला किया। दुबई में रनों का पीछा करते हुए किसी भी टीम की यह 16वीं जीत रही। यदि भारत इस मैच में टॉस जीतने में कामयाब हुआ होता तो नतीजा कुछ बदल भी सकता था।

गलत साबित हुआ बैटिंग ऑर्डर बदलने का फैसला

कप्तान विराट कोहली का बैटिंग ऑर्डर में चेंज करने का फैसला सही साबित नहीं हुआ। ओपनिंग जोड़ी के तौर पर कप्तान विराट कोहली ने केएल राहुल के साथ ईशान किशन को भेजा। ईशान किशन और राहुल दोनों कप्तान की उम्मीदों को पूरा नहीं कर सके। दोनों बल्लेबाज मिलकर 2.5 ओवर में मात्र 11 रन बना सके। न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाजों ने दोनों को खुलकर नहीं खेलने दिया और रन रेट बढ़ाने के चक्कर में ईशान किशन जल्द ही आउट हो गए।

भारतीय टीम के हिटमैन माने जाने वाले रोहित शर्मा नंबर तीन पर कामयाब नहीं हो सके। जीवनदान पाने के बावजूद उनका बल्ला इस मैच में भी नहीं चला और वे 14 रन बनाकर ही आउट हो गए। रोहित शर्मा के बाद नंबर चार पर उतरने वाले विराट कोहली भी इस मैच में कोई कमाल नहीं दिखा सके। इस तरह बैटिंग ऑर्डर में बदलाव करने के विराट कोहली के फैसले का टीम को फायदे की जगह नुकसान ही उठाना पड़ गया।

भारी पड़ी पंड्या को खिलाने की कोहली की जिद

इस विश्व कप के दौरान कप्तान विराट कोहली हार्दिक पंड्या की खुलकर वकालत करने में जुटे हुए हैं। इस विश्व कप के दौरान पंड्या बिल्कुल भी फॉर्म में नहीं दिख रहे हैं। फिर भी उन्हें लगातार दूसरे मैच में कोहली ने मैदान पर उतारा। हार्दिक पंड्या इस मैच में भी अपना वह खेल नहीं दिखा सके जिसके लिए वे जाने जाते हैं। उन्होंने 4 ओवर तक बल्लेबाजी की मगर इस दौरान वे महज 23 रन ही बना सके। न्यूजीलैंड के गेंदबाजों के सामने वे खुलकर स्ट्रोक नहीं खेल सके।

हार्दिक पंड्या (फाइल फोटो- सोशल मीडिया)

वे बॉल की ठीक से टाइमिंग भी नहीं कर पा रहे थे। बल्लेबाजी के दौरान भी इस कदर जूझ रहे थे कि 24 गेंदों के दौरान वे सिर्फ एक चौका लगाने में कामयाब हो सके। फैंस को पंड्या से ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की उम्मीद थी मगर सबकी उम्मीदों पर पानी फिर गया। आखिर में रन रेट बढ़ाने के चक्कर में पंड्या बोल्ट (Trent Boult) की गेंद पर गुप्टिल को कैच थमा बैठे। इस मैच के दौरान हालांकि उन्होंने गेंदबाजी भी की, लेकिन उनकी गेंदबाजी में भी कोई धार नहीं दिखी।

फिर विफल साबित हुआ भारत का टॉप ऑर्डर

पाकिस्तान के मैच की तरह इस मैच के दौरान भी भारत का टॉप ऑर्डर पूरी तरह विफल साबित हुआ। भारत के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज केएल राहुल, ईशान किशन, रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली सभी नाकाम साबित हुए। रोहित शर्मा को पहली ही गेंद पर जीवनदान मिला मगर वे इसका भी कोई फायदा नहीं उठा सके और सिर्फ 14 रन ही बना सके।

वार्म अप मैचों में कमाल दिखाने वाले केएल राहुल का बल्ला इस मैच में भी नहीं चल सका। आईपीएल मैचों में जमकर बल्लेबाजी करने वाला यह खिलाड़ी पाकिस्तान के बाद न्यूजीलैंड के खिलाफ भी बुरी तरह फ्लॉप साबित हुआ। कप्तान विराट कोहली भी अपना स्वाभाविक खेल नहीं दिखा सके और 17 गेंदों में सिर्फ 9 रन ही बना सके। रन रेट बढ़ाने के चक्कर में वे बाउंड्री पर कैच थमा बैठे।

भारतीय टीम (फाइल फोटो- सोशल मीडिया)

सूर्यकुमार को न खिलाने का नुकसान

न्यूजीलैंड के खिलाफ बड़े मैच को लेकर कप्तान विराट कोहली का फैसला भी टीम के पक्ष में नहीं साबित हुआ। आईपीएल में दमदार प्रदर्शन करने वाले सूर्यकुमार यादव को उन्होंने प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा जबकि उनकी जगह ईशान किशन को खेलने का मौका दिया गया।

टॉप ऑर्डर में ईशान किशन (Ishan Kishan) कोई भी कमाल नहीं दिखा सके जबकि मध्यक्रम में भारतीय टीम को सूर्यकुमार यादव की कमी बेहद खली। सूर्यकुमार को बैठाकर ईशान किशन को खिलाने का विराट का फैसला किसी के भी गले नहीं उतरा। इस तरह कप्तान विराट कोहली की यह जिद भी भारतीय टीम के लिए भारी पड़ी।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story