Top

इन तीन बच्चों ने एशियन गेम में देश का नाम किया रोशन

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 18 Nov 2018 6:15 AM GMT

इन तीन बच्चों ने एशियन गेम में देश का नाम किया रोशन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर के तीन बच्चों ने अपने जिले के साथ देश का नाम पूरी दुनिया मे रोशन कर दिया है। एशियन मार्शल आर्ट गेम के तहत तीनों बच्चों ने कराटे और जूडो गेम में नैपाल, इटली बांग्लादेश और उज्बेकिस्तान जैसे देशों को हराकर गोल्ड और सिल्वर मैडल जीता है। बच्चों ने इस जीत का श्रेय अपने माता-पिता और अपने गुरू को दिया है।

अब इस कामयाबी के बाद जीतने वाले बच्चों को ब्राजील में होने वाले वर्ल्ड मार्शल आर्ट में सिलेक्शन हो गया है। एशियन मार्शल आर्ट गेम दिल्ली के ताल कटोरा स्टेडियम मे 12 नंबर से 14 नंबर तक हुआ था। वहीं जीत के बाद बच्चों के परिवार रिश्तेदार से लेकर पूरे जनपद मे खुशी की लहर दौड़ गई।

दरअसल ये बच्चे तिलहर थाना क्षेत्र के रहने वाले है। छात्र करूण यादव पुत्र सत्यपाल सिंह यादव द रेनेसा एकेडमी मे सातवी क्लास के पढ़ाई करते है। छात्र के पिता ठेकेदार है। करूण यादव को बचपन से ही कराटे सीखने का शौक था। माता-पिता ने इस शौक को पूरा करने के लिए करूण यादव को इलाके रहने वाले टीचर मोहित अरोड़ा के पास सीखने के लिए भेजना शुरू कर दिया।

करीब तीन साल तक कराटे सीखने के बाद दिल्ली के ताल कटरोरा स्टेडियम में होने वाले एशियन मार्शल आर्ट गेम में करूण यादव को खेलने का मौका मिला। जहां उन्होंने कराटे गेम में अपना लोहा मनवाया। करूण यादव का मुकाबला इटली से था। करूण ने इटली के खिलाड़ी को हराकर गोल्ड मैडल अपने नाम कर लिया और पूरी दुनिया मे भारत का परचम लहरा दिया। करूण यादव की इस जीत के बाद उनके टीचर से लेकर माता-पिता और जनपद वासी भी खासे खुश है।

दूसरे खिलाड़ी है दिपांशू गंगवार। दिपांशू गंगवार पुत्र गजेंद्र कुमार गंगवार भी द रेनेसा एकेडमी मे आठवीं क्लास मे पढ़ते है। दिपांशू गंगवार को बचपन से जूडो कराटे का शौक था। दिपांशू भी वहां के रहने वाले मोहित अरोड़ा के पास जूडो कराटे सीखने जाते है। टीचर मोहित अरोड़ा ने बताया कि दिपांशू गंगवार ने नैपाल को हराकर रजत पदक जीता है। हालांकि दिपांशू गंगवार का फाईनल रशिया से हुआ। जिसमें उनको हार का सामना करना पड़ गया। लेकिन रजत पदक जीतकर दिपांशू गंगवार को उनके माता-पिता और टीचर ने काफी हौसला बढ़ाया और देश का नाम रौशन करने पर खुशी जताई।

तीसरा खिलाङी अंश गौतम है। अंश गौतम के पिता अखिलेश गौतम बीडीओ है। अंश नौवीं क्लास में रैयान इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ता है। अंश गौतम ने जूडो कराटे में सबसे पहले इंडिया के खिलाड़ी को हराया उसके बाद दूसरा मैच बांग्लादेश से हुआ। उसमें भी अंश गौतम ने जीत हासिल की। उसके बाद आखिरी मुकाबला उज्बेकिस्तान से हुआ। इस मुकाबले में भी अंश गौतम ने जीत हासिल कर देश का नाम रौशन कर दिया।

शानदार जीत हासिल करने के बाद और देश का नाम रौशन करने के बाद तीनों खिलाड़ियों का सिलेक्शन ब्राजील वर्ल्ड मार्शल आर्ट हो गया है। ये गेम अक्टूबर 2019 में होगा। वहीं एशियन मार्शल आर्ट गेम 12 से 14 नवंबर तक चला। इस गेम मे भारत सरकार के मंत्री संतोष गंगवार मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे थे। उनके साथ इंडियन ओलम्पिक संघ के वाइस प्रेसिडेंट करन चौटाला भी थे।

ये भी पढ़ें...शाहजहांपुरः प्रेमिका की चाहत में पहले बना भक्त फिर बन गया चोर

ए भी पढ़ें...शाहजहांपुर : छात्रा टीचर से करना चाहती थी शादी, मौत को लगाया गले

ये भी पढ़ें...शाहजहांपुर स्कूल कांड : पूर्व सांसद ने सीएम को लिखी चिट्ठी, कार्यवाही की मांग

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story