Top

Tokyo Olympics: पोलैंड के छह तैराक बगैर खेले वापस, बोर्ड अध्यक्ष पर इस्तीफे का दबाव

Tokyo Olympics: पोलैंड के ओलंपिक खिलाड़ियों की टीम से छह तैराकों को वापस उनके देश भेज दिया गया है। इससे नाराज खिलाड़ियों ने बोर्ड अध्यक्ष का इस्तीफा मांगा है।

Akhilesh Tiwari

Akhilesh TiwariWritten By Akhilesh TiwariShreyaPublished By Shreya

Published on 21 July 2021 12:25 PM GMT

Tokyo Olympics: पोलैंड के छह तैराक बगैर खेले वापस, बोर्ड अध्यक्ष पर इस्तीफे का दबाव
X

स्वीमिंग करते तैराक (कॉन्सेप्ट फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Tokyo Olympics: टोक्यो ओलंपिक में प्रतियोगिताओं का दौर शुरू होने से पहले पोलैंड की टीम के साथ हादसा हो गया है। पोलैंड के ओलंपिक खिलाड़ियों (Poland Olympic 2020) की टीम से छह तैराकों को वापस उनके देश भेज दिया गया है। इससे नाराज तैराकी टीम (Poland Olympic Swim Team) के खिलाड़ियों ने अपने बोर्ड अध्यक्ष का इस्तीफा मांग लिया है।

नाराज खिलाड़ियों का कहना है कि बोर्ड की लापरवाही ने उन्हें न केवल टोक्यो ओलंपिक से बैरंग वापस भेज दिया बल्कि इससे उनकी खासी किरकिरी भी हो रही है। उन पर खेल प्रतियोगिता में हिस्सा लेने से पहले ही फेल होने का ठप्पा लग गया है। वह सभी ओलंपिक में अपने देश के लिए मेडल जीतने आए थे लेकिन उन्हें जलील होकर लौटना पड़ा।

क्या है मामला?

दरअसल, टोक्यो एक्वेटिक्स सेंटर (Tokyo Aquatics Centre) में तैराकी, गोताखोरी और कलात्मक तैराकी की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाना है। यहां पूरी दुनिया से तैराक टीमें पहुंच रही हैं। इन टीमों में पोलैंड की तैराकी टीम भी शामिल है। पोलैंड की तैराकी टीम ने जब टोक्यो एक्वेटिक्स सेंटर में अपनी उ​पस्थिति दर्ज कराई तो पता चला कि पोलैंड ने निर्धारित खिलाड़ियों से अधिक संख्या में ​तैराकों को ओलंपिक में भेज दिया है।

पोलैंड की तैराकी टीम से कुल 23 खिलाड़ी ओलंपिक में पहुंचे हैं जबकि उसका कोटा केवल 17 खिलाड़ी का है। यह खुलासा होने पर पोलैंड को विश्वसाशी निकाय FINA के क्वालीफाइंग नियमों के आधार पर तैराकी टीम की सदस्य संख्या घटाकर 17 करना पड़ा। इसके बाद पोलैंड ने गलती से ओलंपिक टिकट पाने वाले 6 तैराकों को घर भेज दिया है।

PZP के अध्यक्ष पावेल स्लोमिस्की (फाइल फोटो साभार- सोशल मीडिया)

PZP के अध्यक्ष ने मांगी माफी

इस घटना के बाद पोलिश स्विमिंग फेडरेशन (PZP) के अध्यक्ष पावेल स्लोमिस्की (PZP President Pavel Slominsky) ने माफी मांगी है। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि वह उन लोगों के गुस्से को समझते हैं जो घर लौट आए हैं। "मैं स्थिति के बारे में बहुत खेद, दु:ख और कड़वाहट व्यक्त करता हूं। ऐसी स्थिति नहीं होनी चाहिए और तैराकों की प्रतिक्रिया, उनकी भावनाएं, पोलिश स्विमिंग फेडरेशन पर हमला मेरे समझ में आता है और उचित है।"

स्लोमिन्स्की ने आगे कहा कि गलती खेल में भाग लेने के लिए अधिक से अधिक खिलाड़ियों और कोचों को अनुमति देने की इच्छा के कारण हुई।

एलीजा चोर्ज़ ने व्यक्त की नाराजगी

वहीं, 2012 और 2016 के ओलंपिक में पोलैंड का प्रतिनिधित्व करने वाली 6 एथलीटों में से एक एलीजा चोर्ज़ ने सोशल मीडिया पर इस गलती पर अपना गुस्सा व्यक्त किया। उसने फेसबुक पर लिखा- "कल्पना करें कि अपने जीवन के पांच साल समर्पित करने और सबसे महत्वपूर्ण खेल आयोजन में एक और शुरुआत के लिए प्रयास करने, अपने निजी जीवन और काम को त्यागने, अपने परिवार और समर्पण का परिणाम पूरी तरह से फ्लॉप है।"

इसके अलावा 6 में से एक माटुस्ज़ चोवानीएक ने इंस्टाग्राम पर कहा- "जो कुछ हुआ उससे मैं स्तब्ध हूं। यह मेरे लिए एक बेतुकी स्थिति है, जो कभी नहीं होनी चाहिए थी। वास्तव में, मुझे इस बुरे सपने से अंततः जागने की उम्मीद है।"

पोलैंड की अधिकांश तैराकी टीम ने PZP को एक खुले पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसमें बोर्ड से इस घटना पर इस्तीफा देने का आह्वान किया गया है।

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story