Top

मौसम नहीं होगा मेहमानों पर मेहरबान, ग्रीन पार्क टेस्ट में बारिश बन सकती है विलेन

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 18 Sep 2016 8:08 AM GMT

मौसम नहीं होगा मेहमानों पर मेहरबान, ग्रीन पार्क टेस्ट में बारिश बन सकती है विलेन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

stadium-green-park

Ruchi Mahawar Ruchi Mahawar

कानपुर: टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच 22 सितंबर से ग्रीन पार्क में शुरू होने वाले टेस्ट का इंतजार सब कर रहे हैं, लेकिन बारिश मैच में विलेन का रोल अदा कर सकती है। यह डर सिर्फ क्रिकेट फैंस को ही नहीं सता रहा है, बल्कि बीसीसीाई के पिच एंड ग्राउंड कमेटी के चेयरमैन और ग्रीन पार्क के पिच क्यूरेटर भी इसे लेकर परेशान हैं।

पिच एडं ग्राउंड कमेटी के चेयरमैन दलजीत सिंह के मुताबिक,''यह जो टाइम है साल का, वो सच्चाई का टाइम है। 22 सिंतबर का टेस्ट मैच एक बड़ा चैलेंज है। यही टेस्ट मैच अगर बाद में होता तो हालात कुछ और होते। मौसम का मिजाज आप सब देख ही रहे हैं। ऐसे में सितंबर में टेस्ट मैच कराना यूपीसीए के लिए चैलेंज के साथ-साथ एक बहुत बड़ी उपलब्धि भी होगी। मैं इससे पहले 18 सितंबर को पिच और ग्राउंड का मुआयना करने आया था, तब से अब तक काफी तेजी से काम हुआ है।''

green-park-rain-04

Photos by Ashutosh Tripathi

'मौसम का विकेट पर भी पड़ेगा असर'

दलजीत सिंह ने बताया, ''सितंबर के महीने में शुरुआती सीजन होने की वजह से विकेट में ज्यादा पेस नहीं आ सकता। चाहे पिच क्यूरेटर कुछ भी क्यों न कर ले, तो हालात के मुताबिक ही पिच तैयार की जा रही है। मेरी कोच अनिल कुंबले से भी बात हुई थी। वो अच्छी प्रैक्टिस पिचें चाहते हैं। वैसे हमें निगेटिव नहीं सोचना है। हम पॉजिटिव रहेंगे। उम्मीद यही कर रहे हैं कि बारिश मैच का लुत्फ खराब न करें। टेस्ट रोमांचक हो और फैंस हर दिन का पूरा मजा उठाएं।''

यह भी पढ़ें...ग्रीन पार्क में टॉस बनेगा मैच का बॉस, स्लो विकेट पर मुश्किल होगी बल्लेबाजों की राह

'मेहमान टीम को होगी मुश्किल'

न्यूजीलैंड टीम ने ग्रीन पार्क में अब तक दो मैच खेले हैं। पहले मैच जहां ड्रॉ रहा था, वहीं दूसरे में भारत 8 विकेट से जीता था। ऐसे में तीसरी बार जब कीवी टीम इस मैदान पर उतरेगी तो उसे किस तरह की पिच खेलने के लिए मिलेगी सबकी निगाहें इस पर भी टिकी हुई हैं। दलजीत सिंह ने इस बारे में ज्यादा कुछ तो नहीं कहा, लेकिन इशारों-इशारों यह जरूर बता गए कि मेहमान टीम की राह आसान नहीं रहने वाली। उनके मुताबिक, ''हम जब उनके यहां जाते हैं तो हमें दिक्कतें होती हैं। तो जब वो जब यहां आएंगे तो उन्हें भी एडजस्ट करना होगा। हम जब वहां जाते हैं तो हार्ड और बाउंसी पिचें मिलती हैं तो उन्हें भी यहां जीतने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाने दीजिए। ''

green-park-rain-08-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

ग्राउंड और पिच के लिए मंगाए गए हैं कवर्स

ग्रीन पार्क के क्यूरेटर शिवकुमार के मुताबिक, ''बारिश की वजह से पिच का काम पूरा करने में काफी दिक्कत आ रही है। बार-बार मौसम करवट ले रहा है। बारिश किसी भी वक्त हो रही है। ऐसे में पिच पर काम करना मुश्किल हो रहा है। पिच और ग्राउंड को बारिश से बचाने के लिए करीब 20 लाख रुपए के कवर्स खरीदे गए हैं।''

आगे की स्लाइड्स में देखिए, ग्रीन पार्क के ऊपर छाए काले बादलों की कुछ और फोटोज...

green-park-rain

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-01

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-02

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-03

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-05

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-06-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-07

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-09-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-10

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-11

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-12-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-14-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-15-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

green-park-rain-16-jpg

Photos by Ashutosh Tripathi

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story