×

Quit Mobile: सेलफोन के जनक ने कहा, मोबाइल छोड़ो, जिंदगी जियो

Quit Mobile: दुनिया के पहले सेलफोन के आविष्कारक का कहना है कि वह इस बात से स्तब्ध है कि लोग अब अपने उपकरणों पर कितना ज्यादा समय बर्बाद (time waste) करते हैं।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Updated on: 2 July 2022 2:45 PM GMT
Father of cell phone said, leave mobile, live life
X

मोबाइल फोन के आविष्कारक मार्टिन कूपर: photo - social media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
Click the Play button to listen to article

Quit Mobile: मोबाइल फोन के आविष्कारक (Mobile Phone Inventor) अब अपने अविष्कार से निराश हैं। उनको लगता है कि लोग मोबाइल के जाल में फंस कर जीना भूल गए हैं। दुनिया के पहले सेलफोन के आविष्कारक का कहना है कि वह इस बात से स्तब्ध है कि लोग अब अपने उपकरणों पर कितना ज्यादा समय बर्बाद (time waste) करते हैं। उन्होंने कहा है कि लोगों को अब अपने मोबाइल छोड़ कर जिंदगी जीनी चाहिए (Quit Mobile-Live Life)।

अमेरिका में शिकागो के 92 साल के मार्टिन कूपर (Martin Cooper) ने 1973 में दुनिया का पहला सेलफोन "मोटोरोला डायनाटैक 8000 एक्स" (Motorola DynaTac 8000X) का आविष्कार किया था। पेशे से इंजीनियर मार्टिन कूपर दो दशकों से अधिक समय तक मोटोरोला में काम कर रहे थे और कार फोन की बढ़ती लोकप्रियता से निराश थे। उस समय उनका कहना था कि लोगों को 100 से अधिक साल से अपने डेस्क और रसोई तक में फोन से बांध दिया गया है, और अब वे हमें अपनी कारों में फ़ोन से बांधने वाले हैं।

कूपर को पोर्टेबल फोन बनाने का आईडिया ऐसे आया

बहरहाल, बाद में कूपर को एक पोर्टेबल फोन बनाने का आईडिया आया जिसे लोग न सिर्फ अपनी कार में अपने साथ ला सकते थे, बल्कि वाहन से बाहर भी ले जा सकते थे और उपयोग कर सकते थे। उन्होंने कल्पना की कि ये डिवाइस कैसा दिखेगा। वह चाहते थे कि यह "आपकी जेब में डालने के लिए काफी छोटा हो, लेकिन इतना बड़ा भी हो ताकि यह आपके कानों और मुंह के बीच आ सके।"कूपर चाहते थे कि प्रत्येक व्यक्ति का अपना अलग फोन नंबर हो। इसे अब वह अपनी "सबसे बड़ी उपलब्धि" कहते हैं।उस समय तक, फोन नंबर घर, कार या डेस्क जैसे स्थानों से जुड़े हुए होते थे।

photo - social media

मोटोरोला डायनाटैक को चार्ज करने में 10 घंटे का समय लगता था

मोटोरोला ने बाद में कूपर की परियोजना में लाखों डॉलर डाले। फोन बनाने के लिए इंजीनियर कूपर और उनकी टीम को सिर्फ तीन महीने का समय लगा, क्योंकि उन्होंने पहले से मौजूद पुलिस रेडियो की समान तकनीक का उपयोग किया था।एक बार डिवाइस का काम पूरा हो जाने के बाद, इसे मोटोरोला डायनाटैक 8000 एक्स नाम दिया गया। इसका वजन 2 पाउंड (907 ग्राम) था और यह 10 इंच लंबा था। इसकी बैटरी चार्ज होने पर सिर्फ 25 मिनट चलती थी। और इसे चार्ज करने में 10 घंटे का समय लगता था।

3 अप्रैल 1973 को कूपर ने अपनी बनाई डिवाइस का उपयोग करके पहली सेलफोन कॉल की। कूपर ने पहली कॉल अपने प्रतियोगी जोएल एंगेल को करने का फैसला किया, जो एटी एंड टी में हेड इंजीनियर के रूप में काम कर रहे थे।

सेलफोन कॉल का यह आयोजन मिडटाउन मैनहट्टन में पत्रकारों के सामने एक खुली जगह में किया गया कूपर ने एंगेल की लैंडलाइन को डायल किया। कूपर ने कहा,"जोएल, मैं मार्टी हूँ। मैं आपको एक सेलफोन, एक वास्तविक हैंडहेल्ड पोर्टेबल सेलफोन से कॉल कर रहा हूं।"

1983 में जनता के लिए जारी किया गया

सेलफोन अगले एक दशक तक बाजार में नहीं उतारा गया। आखिरकार 1983 में इसे जनता के लिए जारी किया गया। इसकी कीमत 3,995 डॉलर थी। कूपर ने पिछले साल जारी अपने संस्मरण, "कटिंग द कॉर्ड" में फोन का आविष्कार करने के बारे में लिखा था।

कूपर के आविष्कार के लगभग आधी सदी के बाद अब आलम ये है कि दुनियाभर में लोग अपने मोबाइल फोन की गहरी गिरफ्त में हैं। स्टेटिस्टा द्वारा 2021 में अमेरिका में किये गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 46 उत्तरदाताओं ने प्रत्येक दिन अपने फोन पर पांच से छह घंटे बिताए। ग्यारह प्रतिशत उत्तरदाताओं ने अपने उपकरणों पर सात घंटे या उससे अधिक समय बिताया।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story