Top

ताज नगरी को मिली वाइट कैटेगरी, कारोबारियों को ऐसे लगा तगड़ा झटका

अब ताज नगरी आगरा में ना तो कोई कोई नया होटल और ना ही कोई फैक्ट्री लग पाएगी सकेंगी। यह इसलिए क्योंकि ताज ट्रिपेजियम जोन को ‘व्हाइट’ कैटेगरी में रखा गया है। यह आगरा के कारोबारियों के लिए बडा झटका है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 20 Oct 2016 3:33 PM GMT

ताज नगरी को मिली वाइट कैटेगरी, कारोबारियों को ऐसे लगा तगड़ा झटका
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: अब ताज नगरी आगरा में ना तो कोई नया होटल और ना ही लेदर फुटवियर, कोल्ड स्टोरेज, फाउंड्री आदि की नई फैक्ट्री ही लग सकेंगी। यह इसलिए क्योंकि आगरा स्थित ताज ट्रिपेजियम जोन को ‘व्हाइट’ कैटेगरी में रखा गया है। यह आगरा के कारोबारियों के लिए बडा झटका है।

पूर्व में थीं केवल तीन कैटेगरी

-पर्यावरण और वन मंत्रालय ने उद्योगों को नए सिरे से कैटेगरी दी है।

-पूर्व में केवल तीन ही कैटेगरी रेड, ओरेंज और ग्रीन थीं।

-अब नई कैटेगरी व्हाइट भी बनाई गई है।

-इसमें सिर्फ 36 उद्योगों को ही जगह दी गई है।

-ताजमहल के कारण ताज ट्रिपेजियम जोन को व्हाइट कैटेगरी में रखा गया है।

-आगरा में अब जूता, जनरेटर उद्योग, फाइव स्टार होटल, कोल्ड स्टोर खोलने के लिए अनुमति नहीं मिलेगी।

यह भी पढ़ें ... चाक चौबंद हो रही है ताज की सुरक्षा, वीडियो सर्विलांस से होगी निगरानी

कारोबारियों को लगा बड़ा झटका

-पर्यावरण और वन मंत्रालय के इस फैसले के बाद यह आगरा के कारोबारियों के लिए बडा झटका है

-जिस तरह से आगरा में इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार हो रहा है, यहां उद्योगों की संभावनाएं भी बढने लगी हैं।

-आलू की पैदावार अधिक होने से कोल्ड स्टोरेज की जरूरत है।

-इसी तरह पर्यटन नगरी में नए होटल भी तैयार होने हैं।

-इन सब के बीच आगरा को व्हाइट कैटेगिरी में रखने पर उद्योगों पर बैन लग जाएगा।

यह भी पढ़ें ... शरद पूर्णिमा की रात अपनी खूबसूरती पर इठलाया ताज, सबका दिल हुआ गार्डन-गार्डन

इन 36 उद्योगों को ही अनुमति

एसी-कूलर की असेंबलिंग, साइकिल, नॉन मोटराइज्ड वेहिकल्स की असेंबलिंग, बायो फर्टिलाइजर, बिस्किट ट्रे, चाय की पैकिंग, ब्लॉक मेकिंग प्रिंटिंग, चॉक, कॉटन वूलन होजरी, डीजल पंप रिपेयरिंग, इलेक्ट्रिक लैंप सीएफएल असेंबलिंग कर मैन्यूफैक्चरिंग, लेदर कटिंग, स्टिचिंग, फेब्रिकेशन यूनिट, फ्लाइ एश ब्रिक, हैंडलूम कारपेट बुनाई, कोयर निर्माण, मेटल कैप, शू ब्रश और वायर ब्रश निर्माण, जनरेटर रिपेयरिंग, मेडिकल ऑक्सीजन, सोलर पावर जनरेशन, सर्जिकल मेडिकल प्रोडक्ट एसेंबलिंग

यह भी पढ़ें ... एक साल तक बदसूरत दिखेगा प्रेम का स्मारक ताजमहल, जानिए क्यों होगा ऐसा

ग्रीन कैटेगरी

कार्ड बोर्ड, दाल मिल, फ्लोर मिल, चिलिंग प्लांट, कोल्ड स्टोरेज, ग्लास पोटरीज, गोल्ड सिल्वर रिफाइनिंग, सेरेमिक, सीमेंट उत्पाद, फर्नीचर निर्माण, पाइप निर्माण, लेदर फुटवियर, 20 कमरों से ज्यादा बड़े होटल, पैकिंग इंडस्ट्री आदि 63 उद्योगों को ग्रीन कैटेगरी में शामिल किया गया है।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story