Top

कानपुर के इस मंदिर की ईंट बदलती है किस्मत तो मां की मूर्ति भी बदलती है रंग

suman

sumanBy suman

Published on 4 Oct 2016 5:48 AM GMT

कानपुर के इस मंदिर की ईंट बदलती है किस्मत तो मां की मूर्ति भी बदलती है रंग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

janglee-devi

कानपुर : कानपुर के किदवई नगर में स्थित जंगली देवी मंदिर में जो मांगों सब माता रानी पूरी करती है। कहते हैं कि यहां का एक ईंट अपने घरों में लगाए तो किस्मत बदल जाती है।

इसके लिए मंदिर में मूर्ति के पीछे बनी नाली में ईट रखने की परंपरा है ,फिर उस ईंट को निर्माणाधीन मकान में लगाने से दिन-दुनी रात चौगनी तरक्की होती है, ये है जंगली देवी की कृपा।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें जंगली माता मंदिर के बारें में रहस्मयी बातें...

janglee-mata

मूर्ति रंग बदलता है

साथ ही जो भी भक्त पूरी श्रद्धा के साथ माता के चेहरे को निहारता है, धीरे-धीरे माता की प्रतिमा का रंग गुलाबी हो जाता है ।इस प्राचीन मंदिर का इतिहास बहुत ही पुराना है। जंगल में मंदिर होने के कारण यह जंगली देवी मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। माता जी प्रतिमा के सामने जो भक्त पूरी आस्था के साथ चेहरे को निहारता है और उसके बाद प्रतिमा का रंग धीरे-धीरे गुलाबी होने लगता है तो इसका मतलब है कि मनोकामना पूरी हो गई ।

janglee-matas

पहले या था राजा भोज का शासन

कहते हैं जिस स्थान पर मां जंगली देवी का मंदिर है, 838 ईसवीं में वहा पर राजा भोज का राज था । राजा भोज ने बगाही क्षेत्र में एक विशाल मंदिर बनवाया था l लेकिन राजशाही समाप्त होने के बाद सब कुछ नष्ट हो गया था l

17 मार्च साल 1925 में मोहम्मद बकर अपने घर के निर्माण के लिए खुदाई करा रहे थे उसी दौरान उनको एक ताम्र पात्र मिला था, जिसे देखने के लिए पूरा गांव जमा हो गया था, लेकिन उन्होंने इस ताम्र पात्र को पुरातत्व विभाग को सौप दिया था ।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें जंगली माता मंदिर के बारें में रहस्मयी बातें...

janglee-devi3

मंदिर प्रबंधन के अनुसार क्षेत्रीय लोगों के प्रयास से ताम्र पात्र को वापस लाया गया और एक तालाब के किनारे नीम के पेड़ के नीचे रख कर वहां एक छोटा से मंदिर बना दिया गया, लेकिन उस समय इस क्षेत्र में बहुत बड़ा जंगल था। मंदिर के पास लोग जाने से डरते थे, क्योंकि मंदिर के पास बने तालाब में जंगली जानवर पानी पीने आते थे । समय के साथ धीरे-धीरे तालाब सुख गया और आबादी बढ़ने लगी, लोग यहां पर पूजा करने आने लगे साधु संतों ने वहा पर अपना डेरा जमा लिया । इसके बाद आपसी सहयोग से मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो गया ।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें जंगली माता मंदिर के बारें में रहस्मयी बातें...

janglee1

अखंड ज्योत कभी नहीं बुझती

मंदिर की विशेषता हैं कि इस मंदिर में भक्तों की अटूट आस्था है। जंगली देवी मंदिर में साल 1980 से अखंड ज्योति जल रही है । जो भी भक्त अखंड ज्योति जलाने में योगदान देता है उसकी मनोकामनाएं पूरी होती है । प्रसिद्ध इतिहासकार रामकृष्ण अवस्थी के अनुसार मंदिर के ताम्र पात्र पर अंकित लिपि से इस बात का पता चलता है कि यह लगभग 1200 साल से अधिक पुराना है ।

suman

suman

Next Story