Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

यहां पहाड़ी बताती है गर्भ में पल रहे शिशु का लिंग, पत्थर मारकर करते हैं लड़की-लड़के की जांच

suman

sumanBy suman

Published on 25 Nov 2016 12:02 PM GMT

यहां पहाड़ी बताती है गर्भ में पल रहे शिशु का लिंग, पत्थर मारकर करते हैं लड़की-लड़के की जांच
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: वैसे तो सभ्य समाज में बेटा हो या बेटी कहा जाता है दोनों बराबर होते हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी के वक्त हर कोई जानने को उत्सुक रहता है कि गर्भ में पल रहा शिशु का लिंग क्या है मेल या फीमेल। गर्भ में पल रहे बच्चे को लेकर हर किसी को क्यूरिसटी होती है इसके लिए देश में कई तरह की परंपराएं प्रचलित है जो लिंग का पता लगाने में मदद करती है। जैसे झारखंड के बेड़ों प्रखंड के खुखरा गांव में मां के गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग पता करने की एक अनोखी परम्परा पिछले 400 सालों से चली आ रही है।

खुखरा गांव में एक पहाड़ है जो पजहरी पहाड़ी के नाम से जाना जाता हैं। जिस पर एक चांद की आकृति खुदी हुई है, इसलिए इसे चांद पहाड़ भी कहते हैं। पहाड़ पर खुदी चांद की आकृति बता देती है की मां के गर्भ में पल रहा बच्चा बेटा है या बेटी। गर्भस्थ शिशु का लिंग पता करने के लिए गांव की गर्भवती महिलाओं को इस पहाड़ की ओर चांद की आकृति पर निश्चित दूरी से बस एक पत्थर फेंकना होता है। अगर गर्भवती स्त्री के हाथ से छूटा पत्थर चांद के भीतर लगे तो यह संकेत है कि बालक शिशु होगा, चांद आकृति से बाहर पत्थर लगने पर बालिका शिशु होगी।

shiv

इस परम्परा पर यहां के ग्रामवासियों का अटूट विश्वास उनके अनुसार यह हमेशा सही होता है। चांद पहाड़ मूल रूप से नागवंशी राजाओं के मनोरंजन पार्क के रूप में विकसित किया गया था। पहाड़ के ऊपर शिवलिंग और कुंड जैसी आकृतियां गवाह हैं कि वहां नागवंशी राजा पूजा पाठ भी करते थे। इसके ठीक बगल में चांदनी पहाड़ है, जहां नागवंशी रानियां विहार करती थीं।

suman

suman

Next Story