सावन में शिव को ऐसे करें अभिषेक, चढ़ाएं धतूरा और बेलपत्र

Published by Newstrack Published: July 19, 2016 | 11:55 am
Modified: July 19, 2016 | 12:07 pm

लखनऊ: शिव को प्रिय सावन मास को लेकर लोगों में कई सवाल रहते है कि कैसे भोले भंडारी को प्रसन्न किया जाए? किस तरह पूजा-पाठ करेंगे तो शिव की कृपा उनके भक्तों पर बरसेगी। वेसे तो शिव भगवान को भोले भंडारी कहते है जो सिर्फ भाव के भूखे है। वे श्रद्धा भाव से साधारण तरीके से की गई पूजा से भी खुश हो जाते है। फिर भी हम आपको सावन में शिव की पूजा की सरल विधि बता रहे है।

shiv-jalabhishekh
सावन में शिवशंकर की पूजा
सावन में महादेव की पूजा अभिषेक से की जाती है। भोले भंडारी को जल, दूध दही, घी, शक्कर,गंगाजल, गन्ना रस  से अभिषेक किया जाता है। अभिषेक के बाद बेलपत्र, समीपत्र, दूब, कुशा, कमल, नीलकमल,ऑक मदार, जंवाफूल कनेर, राई फूल आदि चढ़ा कर प्रसन्न किया जाता है। इसके  साथ ही भोग में धतूरा ,भांग और श्रीफल महादेव को चढ़ाया जाता है।

महादेव का अभिषेक
महादेव का अभिषेक करने के पीछे एक पौराणिक कथा का उल्लेख है कि समुद्र मंथन के समय हलाहल विष निकलने के बाद जब महादेव इस विष का पान करते हैं तो वह मूर्च्छित हो जाते हैं। उनकी दशा देखकरसभी देवी देवता भयभीत हो जाते हैं और उन्हें होश में लाने के लिए निकट में जो चीजें उपलब्ध होती हैं, उनसे महादेव को स्नान कराने लगते हैं। इसके बाद से ही जल से लेकर तमाम उन चीजों से महादेव का अभिषेक किया जाता है।

bell-sammi

बेलपत्र और समीपत्र  भगवान शिव को भक्त प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र और समीपत्र चढ़ाते हैं। इस संबंध में एक पौराणिक कथा के अनुसार जब 89 हजार ऋषियों ने महादेव को प्रसन्न करने की विधि परम पिता ब्रह्मा से पूछी तो ब्रह्मदेव ने बताया कि महादेव सौ कमल चढ़ाने से जितने प्रसन्न होते हैं, उतना ही एक नीलकमल चढ़ाने पर होते हैं। ऐसे ही एक हजार नीलकमल के बराबर एक बेलपत्र और एक हजार बेलपत्र चढ़ाने के फल के बराबर एक समीपत्र का महत्व होता है।

shiv-abhisekh

बेलपत्र ने दिलाया वरदान
बेलपत्र महादेव को प्रसन्न करने का सुलभ माध्यम है। बेलपत्र के महत्व में एक पौराणिक कथा के अनुसार एक भील डाकू परिवार का पालन-पोषण करने के लिए लोगों को लूटा करता था। सावन महीने में एक दिन डाकू जंगल में राहगीरों को लूटने के इरादे से गया। एक पूरा दिन रात बीत जाने के बाद भी कोई शिकार नहीं मिलने से डाकू परेशान हो गया।

belpatra

इस दौरान डाकू जिस पेड़ पर छुपकर बैठा था, वह बेल का पेड़ था और परेशान डाकू पेड़ से पत्तों को तोड़कर नीचे फेंक रहा था। डाकू के सामने अचानक महादेव प्रकट हुए और वरदान मांगने को कहा। अचानक हुई शिव कृपा जानने पर डाकू को पता चला कि जहां  वो बेलपत्र फेंक रहा था उसके नीचे शिवलिंग स्थापित है। इसके बाद से बेलपत्र का महत्व और बढ़ गया।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App