×

इस जन्माष्टमी पर करें अपनी राशि के अनुसार पूजन, मिलेगा मनचाहा चाहा फल

By

Published on 13 Aug 2017 2:45 PM GMT

इस जन्माष्टमी पर करें अपनी राशि के अनुसार पूजन, मिलेगा मनचाहा चाहा फल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सहारनपुर: देश के कुछ भाग में सोमवार तो कुछ हिस्सों में मंगलवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाना है। आज हम आपको इस जन्माष्टमी पर मनोकापूर्ण पूर्ण करने के कुछ जरुरी टिप्स बता रहे हैं। इस जन्माष्टमी पर यदि आप अपनी राशि के अनुसार पूजन करते हैं तो निश्चित ही आपको हर कार्य में सफलता प्राप्त होगी।

यह भी पढ़ें: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर आपकी एक छोटी सी भूल, करा सकती है बड़ा नुकसान

सहारनपुर के श्री बालाजी धाम के संस्थापक गुरू श्री अतुल जोशी जी बताते हैं कि यूं तो श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व ऐसा पर्व है, जिस पर भगवान श्रीकृष्ण की किसी भी तरह से सच्ची सेवा कर ली जाए तो वह जातक की हर मनोकामना को पूर्ण कर देंगे, लेकिन यदि व्यक्ति अपनी राशि के अनुसार पूजन करें तो बेहतर फल की प्राप्ति होगी।

यह भी पढ़ें: जन्माष्टमी स्पेशल: श्रीकृष्ण के साथ लक्ष्मी भी होंगी प्रसन्न, अगर करेंगे ये उपाय

मेष- श्री कृष्ण के मंत्र 'ॐ कमलनाथाय नम:' का जाप करें।

वृषभ- श्री कृष्ण के अष्टक का पाठ करें।

मिथुन- श्री कृष्ण को तुलसी अर्पित करें और 'ॐ गोविन्दाय नम:' मं‍त्र का जाप करें।

आगे की स्लाइड में जानिए अन्य राशियों के लोग किस तरह करें पूजन

कर्क- श्री कृष्ण को सफेद गुलाब अर्पित करें और राधाष्टक का पाठ करें।

सिंह- श्री कृष्ण के मंत्र 'ॐ कोटि-सूर्य-समप्रभाय नम:' का जाप करें।

कन्या- श्री कृष्ण के बाल स्वरूप का ध्यान कर 'ॐ देवकी-नंदनाय नम:' का जाप करें।

तुला- श्री कृष्ण का ध्यान कर 'ॐ लीला-धराय नम:' का जाप करें।

वृश्चिक- वराह भगवान का ध्यान कर 'ॐ वराह नम:' का जाप करें।

आगे की स्लाइड में जानिए अन्य राशियों के लोग किस तरह करें पूजन

धनु- श्री कृष्ण के गुरु रूप का ध्यान कर 'ॐ जगद्‍गुरुवे नम': का जाप करें।

मकर- श्री कृष्ण के सुदर्शनधारी स्वरूप का ध्यान कर 'ॐ पूतना-जीविता हराय नम:' का जाप करें।-

कुंभ- श्री कृष्ण के दया रूप का ध्यान कर 'ॐ दयानिधाय नम:' का जाप करें।

मीन- श्री कृष्ण के नटखट रूप का ध्यान कर 'ॐ यशोदा-वत्सलाय नम:' का जाप करें।

Next Story