चार बार विधायक रहे हैं स्वामी प्रसाद मौर्या, जानिए पूरा राजनीतिक करियर

लखनऊ: बीएसपी के पूर्व महासचिव ने आज पार्टी से इस्तीफा दे दिया। स्वामी प्रसाद मौर्या ने अपना राजनीतिक करियर लोकदल से शुरू किया। जनतादल से होते हुए वो बीएसपी में आए। मौर्या बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के विचारों से प्रभावित थे। वह विधानसभा में कुशीनगर के पडरौना सीट से चुनाव जीते हैं।

वह चार बार विधानसभा का चुनाव जीत चुके हैं। बीएसपी के शासनकाल में वो मंत्री भी रहे। यूपी की अभी 16वीं विधानसभा में वो विपक्ष के नेता हैं।

बीजेपी और बीएसपी की गठबंधन की बनी सरकार में पहली बार मंत्री बनाए गए। उस सरकार का कार्यकाल अक्बटूर 1996 से मार्च 1997 तक रहा।
गठबंधन में 6—6 महीने तक सीएम बनने का समझौता हुआ था। मायावती ने अपने छह महीने गुजार लिए लेकिन कल्याण सिंह के सीएम बनने कुछ दिन बाद ही समर्थन वापस ले लिया।

साल 2001 में वो विपक्ष के नेता बनें। वो मई 2002 से अगस्त 2003 तक सदन के नेता भी रहे। मौर्या बसपा के 2007 में बनी सरकार में भी मंत्री रहे। स्वामी प्रसाद मौर्या का जन्म 2 जनवरी 1954 को प्रतापगढ़ में हुआ और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से उन्होंने कानून की डिग्री ली। वह दो बार पडरौना और दो बार दलमउ से चुनाव जीते। स्वामी प्रसाद की पुत्री संघमित्रा भी मैनपुरी से बीएसपी की टिकट पर चुनाव लड़ चुकी है।

    Tags: