क्या आपने कभी सोचा है फोन पर क्यों बोलते हैं ‘हैलो’?

Published by Newstrack Published: June 10, 2016 | 5:01 pm
Modified: June 11, 2016 | 1:06 pm

[nextpage title=”next” ]
grahamvell
ज्यादा फोन मोबाइल यूजर्स रिसीव करते ही ‘हैलो’ बोलते है। क्या कभी सोचा है कि फोन उठाते ही सबसे पहले आप -हम  हैलो क्यों बोलते हैं? या फिर हैलो के अलावा और कुछ क्यों नहीं कहते। अब ये मत कहना कि जब से फोन आया है तब से लोग हैलो ही कहते हैं। अगर नहीं जानते तो जानिए क्यों फोन पर बात करते समय सबसे पहला शब्द हैलो कहा जाता है।
hellllo

हाला, होला से हैलो तक
ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार हैलो शब्द पुराने जर्मन शब्द हाला, होला से बना है, जिसका इस्तेमाल नाविक करते थे। ये शब्द पुराने फ्रांसीसी या जर्मन शब्द ‘होला’ से निकला है। इसका मतलब होता है ‘कैसे हो’ यानी, हाल कैसा है जनाब का? अंग्रेज़ कवि चॉसर के ज़माने में यानी 1300 के बाद ये शब्द हालो (hallow)बन चुका था। इसके दो सौ साल बाद यानी शेक्सपियर के ज़माने में हालू (Halloo) बन गया। फिर ये शिकारियों और मल्लाहों के इस्तेमाल से कुछ और बदला और हालवा, हालूवा,होलो (hallloa, hallooa, hollo) बना।

आगे का स्लाइड्स में पढ़ें किसने की थी शुरुआत

[/nextpage]
[nextpage title=”next” ]
helloo

 आर यू देयर की  जगह टॉमस एडीसन ने कहा हलो
बहरहाल जब टेलीफोन का आविष्कार हुआ तो शुरूआत में लोग फोन पर पूछा करते थे ‘आर यू देयर?’ तब उन्हें यह विश्वास नहीं था कि उनकी आवाज़ दूसरी ओर पहुंच रही है, लेकिन अमेरिकी आविष्कारक टॉमस एडीसन को इतना लंबा वाक्य पसंद नहीं था। उन्होंने जब पहली बार फ़ोन किया तो उन्हें य़कीन था कि दूसरी ओर उनकी आवाज़ पहुंच रही है। उन्होंने कहा, हलो।
आगे का स्लाइड्स में पढ़ें किसने की थी शुरुआत
[/nextpage]
[nextpage title=”next” ]
graham-bell

ग्राहम बैल ने कहा था हैलो
10 मार्च 1876 को अलेक्जेंडर ग्राहम बैल के टेलीफोन आविष्कार को पेटेंट मिला। वे शुरू में टेलीफोन पर बात शुरू करने के लिए नाविकों के शब्द ‘हाय’ का इस्तेमाल करते थे। उनकी गर्लफ्रेंड का नाम था हैल्लो। जिसका पूरा नाम मारग्रेट हैलो था। वे जब कभी उनसे फ़ोन करते तो प्यार से उने हैल्लो बोलते थे। और मिलते तो “हैल्लो” कहकर पुकारते थे। बस वाही से इस शब्द की शुरुआत हुई। जिसे आज हम सभी बोलते है।

आगे का स्लाइड्स में पढ़ें किसने की थी शुरुआत
[/nextpage]
[nextpage title=”next” ]
telephon

सन 1877 में टॉमस एडीसन ने पिट्सबर्ग की सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट एंड प्रिंटिंग टेलीग्राफ कम्पनी के अध्यक्ष टीबीए स्मिथ को लिखा कि टेलीफोन पर स्वागत शब्द के रूप में हैलो का इस्तेमाल करना चाहिए। उनकी सलाह को अंततः सभी ने मान लिया। उन दिनों टेलीफोन एक्सचेंज में काम करने वाली ऑपरेटरों को ‘हैलो गर्ल्स’ कहा जाता था। इस तरह हम हैलो हाय करने लगे

[/nextpage]