×

Tripura Hinsa: त्रिपुरा हिंसा पर बड़ी खबर, भाजपा ने जांच के लिए पांच सदस्यी कमेटी का किया गठन

Tripura Hinsa: राज्य पुलिस से इस हिंसा के बारे में प्राप्त विस्तृत जानकारी के अनुसार विश्व हिंदू परिषद (विहिप) द्वारा बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के विरोध में प्रदेश में एक रैली निकाली थी।

Network

NetworkNewstrack NetworkMonikaPublished By Monika

Published on 28 Oct 2021 12:54 PM GMT

Tripura Hinsa
X

त्रिपुरा हिंसा (photo : सोशल मीडिया ) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Tripura Hinsa: बीते मंगलवार को त्रिपुरा (Tripura) राज्य स्थित पानीसागर उप-मंडल में हिंसा (hinsa) भड़कने के चलते उपद्रवियों द्वारा एक मस्जिद और दुकानों में लगाई गयी आग तथा तृणमूल कांग्रेस (त्रिपुरा) द्वारा इस घटना के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराये जाने के मद्देनज़र सत्तारूढ़ भाजपा सरकार ने त्रिपुरा घटित हुई हिंसा की जांच के लिए पांच सदस्यीय समिति का गठन किया है (5 sadasyi samiti ka gathan)।

राज्य पुलिस से इस हिंसा के बारे में प्राप्त विस्तृत जानकारी के अनुसार विश्व हिंदू परिषद (विहिप) द्वारा बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़(Bangladesh hindu mandiro me todfod) के विरोध में प्रदेश में एक रैली निकाली थी। इस रैली के दौरान ही कुछ अराजक तत्वों के द्वारा हिंसा को अंजाम दिया गया। पुलिस के अनुसार विहिप के भी कुछ सदस्य कथित रूप से हिंसा के चलते हुई आगजनी में शामिल थे।

भाजपा (BJP) ने मंगलवार को भड़की इस हिंसा में अपने पार्टी के सदस्यों की संलिप्तिति को पूरी तरह से नकार दिया है । सांसद और भाजपा के त्रिपुरा प्रभारी विनोद सोनकर के बयान (Vinod Sonkar ka Bayan) के अनुसार पार्टी ने इस हिंसा की जांच के लिए एक कमेटी का गठन (janch ke liye committee ka gathan) किया है , जिसमें अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के सदस्य भी शामिल हैं।

त्रिपुरा प्रभारी विनोद सोनकर (photo : सोशल मीडिया )

तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया

त्रिपुरा प्रभारी विनोद सोनकर ने हिंसा को भड़काने के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि टीएमसी जो त्रिपुरा में होने वाले आगामी 2023 विधानसभा चुनावों से पहले राज्य में धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण कर अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रही है।

साथ ही विनोद सोनकर ने कहा कि-"त्रिपुरा में कोई भी पार्टी कार्यकर्ता टीएमसी से जुड़ने को तैयार नहीं है । जिसके नतीजतन त्रिपुरा में टीएमसी का अस्तित्व आधारहीन है । इसी के चलते वे राज्य में धार्मिक तनाव और ध्रुवीकरण का माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं।"

भाजपा कार्यकर्ताओं का टीएमसी में शामिल होने की बात का खंडन करते हुए कहा कि-"हमारी पार्टी और कार्यकर्ताओं के बीच कोई भी शंका की गुंजाइश नहीं है। यहां तक कि जिन कुछ कार्यकर्ताओं को पार्टी या सरकार के साथ कुछ समस्याएं थीं वो भी भाजपा छोड़कर कहीं नहीं जाने वाले हैं। हमारे कार्यकर्ता जी-जान से आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत सुनिश्चित करेंगे।"

Monika

Monika

Next Story