×

अखिलेश के साथ प्रेस कांफ्रेंस में राहुल बोले- मायावती की विचारधारा से देश को खतरा नहीं

By

Published on 29 Jan 2017 7:18 AM GMT

अखिलेश के साथ प्रेस कांफ्रेंस में राहुल बोले- मायावती की विचारधारा से देश को खतरा नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

राहुल गांधी और CM अखिलेश यादव पहली बार साथ-साथ, साझा प्रेस कांफ्रेंस शुरू

लखनऊ: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और सीएम अखिलेश यादव के साथ साझा प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि 'बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती की विचारधारा से देश को खतरा नहीं है, जबकि पीएम नरेंद्र मोदी की विचारधारा से है।'

राहुल ने ये कहकर विधानसभा चुनाव के बाद बसपा के साथ अपने रास्ते खुले रखे हैं। दोनों नेता भले दावा कर रहे हैं कि चुनाव में 300 सीटें जीतेंगे, लेकिन दोनों को इसमें अंदर से अंदेशा नजर आ रहा है। राहुल ने ये कहकर अपने रास्ते बसपा के साथ भी खुले रखने की कोशिश की है। राहुल के इस बयान से कुछ देर के लिए सीएम अखिलेश यादव असहज हो गए थे।

उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में जीत का दम भरने के लिए रविवार (29 जनवरी) को पहली बार समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के शीर्ष नेता एक साथ मंच पर दिखे। इससे पहले राहुल गांधी और अखिलेश यादव ने होटल ताज में बंद कमरे में बात की।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और यूपी के सीएम अखिलेश यादव जॉइंट प्रेस कान्फ्रेंस कर रहे हैं । दोनों ही पार्टियों के कई बड़े जिनमें नरेश उत्तम, नरेश अग्रवाल और अहमद हसन, प्रमोद तिवारी, पीएल पुनिया और अनु टंडन आदि वहां मौजूद हैं। इनके अलावा ग़ुलाम नबी आज़ाद, राजबब्बर, राजीव शुक्ला, अपर्णा यादव, रणदीप सुरजेवाला वहां मौजूद हैं।

'उत्तर' ही जवाब है

साझा प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, 'उत्तर प्रदेश' में शब्द में पहला शब्द 'उत्तर' है यही जवाब है। प्रदेश का यह गठबंधन बांटने की राजनीति का जवाब है।' राहुल बोले, 'आज गंगा-जमुना का मिलान हो रहां है। गठबंधन से जनता को शक्ति मिलेगी। इससे राज्य में प्रगति होगी और भाईचारा बढ़ेगा।' कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, मुझे गठबंधन को लेकर खुशी है। अखिलेश से मेरे पॉलिटिकल और पर्सनल रिलेशन हैं।

हम एक-दूसरे को जानते हैं, अब काम करेंगे

इसके बाद अखिलेश यादव ने कहा, 'मैं राहुल जी के साथ लोकसभा में साथ रहा हूं। कार्यक्रम में मिलता रहता हूं। हम एक-दूसरे को जानते हैं और अब साथ काम करने का मौक़ा मिला है।' सीएम अखिलेश यादव ने कहा, यूपी बड़ा प्रदेश है। आबादी के नजरिये से भी। देश का रास्ता भी यहीं से गुजरता है।

हम प्रदेश में 300 सीट जीतेंगे

सीएम अखिलेश यादव ने कहा, प्रदेश में पहले से विकास काम चल रहा है। राहुल जी के आने के बाद और काम होगा। अखिलेश यादव ने दावा किया कि हम प्रदेश में 300 सीट जीतेंगे।

लोगों ने मन बना लिया है

राहुल बोले, अब 'साइकिल' के पास 'हाथ' है। इसलिए रफ़्तार बढेगी। हम दोनों की उम्र में भी फर्क नहीं है

हम दोनों साइकिल के दो पहिये हैं। गठबंधन प्रेम-सद्भाव बढ़ाएगा। राहुल ने कहा, लोग मन बनाकर बैठे हैं कि सरकार किसकी बनानी है।

'अखिलेश अच्छा लड़का है'

राहुल ने कहा, लखनऊ में वर्कर्स का सम्मलेन हुआ था। तब भी हमने कहा था अखिलेश अच्छा लड़का है। अच्छा काम कर रहा है लेकिन काम करने नहीं दिया जा रहा। अब युवा सोच के साथ आगे बढ़ेंगे। यूपी में कांग्रेस को और मज़बूत करेंगे। देश में कांग्रेस की विचारधारा को आगे बढ़ाएंगे। देश को गुस्से के रास्ते से रोकना चाहता हूं।

हम युवाओं को एक रास्ता देना चाहते हैं

राहुल ने कहा, हम क्रोध की राजनीति को रोकना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'हम दोनों की दोस्ती है लेकिन हम युवाओं को एक रास्ता देना चाहते हैं। हम दोनों की सोच एक है उसी पर चुनाव लड़ रहे हैं। थोड़ा कंप्रोमाइज दोनों को करना होगा। आरएसएस और बीजेपी की निगेटिवीटी को रोकना है।'

टास्क फ़ोर्स पकड़ेगी किसे?

कैराना मामले पर एक सवाल के जवाब में सीएम अखिलेश ने कहा, टास्क फोर्स का गठन तो होगा लेकिन पकड़े वही लोग जाएंगे। उनका सीधा निशाना बीजेपी की ओर था।

तब और अब के माहौल में फर्क है

राहुल ने कहा, 'अखिलेश और हम, दोनों लोग मिलकर अगले पांच साल सरकार चलाएंगे। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'हिस्ट्री स्टेटिक नहीं होती है। ये कहना ठीक नहीं कि उस वक़्त गठबंधन गलत था। तब और अब के माहौल में फर्क है। आज जो माहौल है वो उस वक़्त नहीं था।'

मायावती से देश को ख़तरा नहीं

राहुल बोले, 'मैं कांशी राम की इज़्ज़त करता हूं। मायावती में और बीजेपी में फर्क है। बीजेपी लड़ाती है जिससे हिंदुस्तान को ख़तरा है। मायावती से देश को ख़तरा नहीं है। एक साथ हम सबको खड़ा होना होगा। मायावती और आरएसएस-मोदी में तुलना संभव नहीं है।'

अमेठी-रायबरेली सीट मुद्दा नहीं

कांग्रेस अमेठी और रायबरेली में कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी, इस सवाल के जवाब में राहुल बोले, ये कोई बड़ा मुद्दा नहीं है। बहुत से बड़े मुद्दे हैं। राष्ट्रीय स्तर मुद्दे हैं जिन पर काम करना है।

बहुत दिनों से 'बुआ नहीं कहा

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती को साथ लेने के सवाल पर सीएम अखिलेश यादव ने कहा, 'इधर बहुत दिनों से 'बुआ नहीं कहा। हम उनको जगह नहीं दे पाते। संभव नहीं था।' इसके बाद अखिलेश ने कहा, हमारी सरकार ने जितनी सरकारी नौकरी एक साथ दी है उतनी किसी ने नहीं दी। हमने नौजवानों के लिए काम किया है। इसी के तहत लैपटॉप भी बांटे।

शीला दीक्षित से पुराना रिश्ता है

सीएम अखिलेश यादव ने शीला दीक्षित से जुड़े एक सवाल के जवाब में कहा, शीला जी से मेरा पुराना रिश्ता है। आगे हम दोनों को क्या करना है, अभी क्यों बता दें? आने वाले वक़्त में क्या होगा इसका फैसला समय आने पर लेंगे।

गौरतलब है कि इस बार यूपी में सपा और कांग्रेस ने गठबंधन कर मैदान में उतरने का फैसला लिया है। यूपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस 105 और सपा 298 सीट पर चुनाव लड़ रही है।

आगे की स्लाइड में देखें कुछ अन्य तस्वीरें ...

Next Story