×

अब होर्डिंग में भी दिखने लगी समाजवादी रार, पिता-बेटे का नामो निशान नहीं

समाजवादी पार्टी में चल रही रार अब लखनऊ से निकलकर जिलों में भी पहुंच चुकी है। यह रार अब समाजवादी पार्टी की होर्डिंग्स में भी देखने को मिल रही है। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता आपस में ही होर्डिंग वॉर में शामिल हो चुके हैं। सपा से निष्कासित प्रो. रामगोपाल यादव और उनके बेटे सपा एमपी अक्षय यादव के संसदीय क्षेत्र फिरोजाबाद में ही समाजवादी पार्टी की होर्डिंग्स में ना तो दोनों का नाम है और ना ही फोटो लगी है। यह होर्डिंग्स समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय समेत पूरे शहर में लगी हैं।

tiwarishalini
Updated on: 27 Oct 2016 10:22 PM GMT
अब होर्डिंग में भी दिखने लगी समाजवादी रार, पिता-बेटे का नामो निशान नहीं
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

फिरोजाबाद: समाजवादी पार्टी में चल रही रार अब लखनऊ से निकलकर जिलों में भी पहुंच चुकी है। यह रार अब समाजवादी पार्टी की होर्डिंग्स में भी देखने को मिल रही है। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता आपस में ही होर्डिंग वॉर में शामिल हो चुके हैं। सपा से निष्कासित प्रो. रामगोपाल यादव और उनके बेटे सपा एमपी अक्षय यादव के संसदीय क्षेत्र फिरोजाबाद में ही समाजवादी पार्टी की होर्डिंग्स में ना तो दोनों का नाम है और ना ही फोटो लगी है। यह होर्डिंग्स समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय समेत पूरे शहर में लगी हैं।

यह भी पढ़ें ... अखिलेश समर्थकों ने CM आवास के बाहर लगाया अमर सिंह का अभद्र पोस्‍टर

किसने लगाई है होर्डिंग्स ?

-सपा की जिला इकाई की तरफ से शहर में बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगाए गए हैं।

-जिसमें समाजवादी पार्टी की रजत जयंती के बधाई संदेश लिखे गए हैं।

-ये होर्डिंग्स समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष (फिरोजाबाद) अमोल यादव की तरफ से लगाए गए हैं।

यह भी पढ़ें ... सड़क पर आया सैफई का कलह, होर्डिंग्स से आउट हुए प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव

क्यों नहीं है दोनों की फोटो और नाम ?

बताया जा रहा है कि सपा से निष्काषित रामगोपाल यादव और उनके बेटे अक्षय यादव सीएम अखिलेश यादव के समर्थक हैं। वहीं जिलाध्यक्ष अमोल यादव सीएम अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव के समर्थक हैं। यही कारण है कि होर्डिंग्स से रामगोपाल यादव और अक्षय यादव का नामो निशान नहीं हैं। बता दें, कि पिछले दिनों शिवपाल यादव ने प्रो. रामगोपाल यादव समेत उनके बेटे और बहु पर गंभीर आरोप लगाए थे। जिसके बाद प्रो. रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए बर्खास्त कर दिया गया था।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story