×

परोल पर छूटे अमनमणि ने निर्दलीय किया नामांकन, सपा ने टिकट दे कर वापस ले लिया था नाम

अमनमणि ने महाराजगंज मुख्यालय पर विधानसभा के निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया है। अमनमणि अपनी पत्नी सारा की हत्या के आरोपी हैं और परोल पर जेल से बाहर आये हैं।

zafar
Published on: 13 Feb 2017 10:12 AM GMT
परोल पर छूटे अमनमणि ने निर्दलीय किया नामांकन, सपा ने टिकट दे कर वापस ले लिया था नाम
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

परोल पर छूटे अमनमणि ने निर्दलीय किया नामांकन, सपा ने टिकट दे कर वापस ले लिया था नाम

गोरखपुर/महाराजगंज: मधुमिता शुक्ला हत्याकांड में आजीवन सजा काट रहे पूर्व मंत्री व बाहुबली नेता अमरमणि के पुत्र और खुद सारा हत्याकांड के आरोपी अमनमणि ने सोमवार को नौतनवा विधानसभा क्षेत्र से नामांकन कर दिया। परोल पर जेल से छूटे अमनमणि त्रिपाठी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में पर्चा दाखिल किया।

अमनमणि ने किया नामांकन

-अमनमणि ने महाराजगंज मुख्यालय पर विधानसभा के निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया है।

-मधुमिता शुक्ला हत्याकांड में सजा काट रहे अमरमणि के पुत्र अमन भी सारा हत्याकांड में आरोपी हैं और परोल पर जेल से बाहर आये हैं।

-अमनमणि को अपनी पत्नी सारा की हत्या के आरोप में सीबीआई ने गिरफ्तार किया था।

-सारा की फीरोजाबाद में एक सड़क दुर्घटना में मौत के बाद मृतका की मां ने अमन पर हत्या का आरोप लगाया था।

सपा ने नहीं दिया टिकट

-इस मामले में सारा की मां की मांग पर प्रदेश सरकार ने सीबीआई जांच की शिफारिश की थी, जिसने बाद में अमनमणि को गिरफ्तार किया था।

-हालांकि, अमन को पहले समाजवादी पार्टी ने टिकट दे दिया था, लेकिन बाद में उनका टिकट काट दिया गया था।

-सपा ने यहां से मुन्ना सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है।

-अमन की दो बहनें अपने भाई के समर्थन में प्रचार कर रही हैं और उनके लिए वोट मांग रही हैं।

-इससे पहले 2007 में अमनमणि के पिता अमरमणि ने भी जेल से ही चुनाव लड़ा था और विजयी हुए थे।

आगे स्लाइड्स में देखिये कुछ और फोटोज...

परोल पर छूटे अमनमणि ने निर्दलीय किया नामांकन, सपा ने टिकट दे कर वापस ले लिया था नाम

परोल पर छूटे अमनमणि ने निर्दलीय किया नामांकन, सपा ने टिकट दे कर वापस ले लिया था नाम

zafar

zafar

Next Story